Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

Mahak Ansarioffline

  • 20

    posts

  • 0

    comments

  • 221

    Views

लोकडाउन से मज़दूरो की दशा -अर्थव्यवस्था व जीवन पर प्रभाव

मेरे प्यारे वतन मे आई ये कैसी घड़ी , सांस मुश्किल मे है ज़िंदगी ख़तरे मे पडी । लाशे ही लाशे अब हमारी निगाहो मे है...

read more

मेहक अंसारी

चाहते है हम तुम्हे दीवानो की तरह , पर देखते हो तुम हमे बेगानो की तरह , तुम्हे अपनी मोहब्बत से इतना मजबूर कर...

read more

मेहक अंसारी

दिल गवाही देता है तुमसे प्यार करने की , पर इजाज़त नही मुझको इक़रार करने की , मुद्दते गुज़र गई तेरी राह तकते-तकते अब तो...

read more

मेहक अंसारी

मेरी अंधेरी रातो मे जलते हो तुम दिया बनके , मेरे सीने मे धड़कते हो तुम जिया बनके , अब नही सहा जात दर्द ये...

read more

मेहक अंसारी

मेरे ज़हन मे है ये सवाल कब से मुझसे सब वाकिफ़ हैं फिर क्यूँ हूँ मैं अनजान सब से मुझको तुम मंज़िल का मेरी पता देदो बस...

read more
Please wait ...

Friends

Profile Photo
Raz-Varma
@raz-varma
Profile Photo
Mk Rana
@mk-rana
Profile Photo
Anmol-Singh-Mathur
@anmol-singh-mathur
Profile Photo
roobi-sharma
@roobi-sharma
Profile Photo
@Akashsarkate
@akashsarkate

Website

sponsored

sponsored