Home » sanjay-kumar

Kavi sanjay kumar Srivastavaoffline

  • India, Lakhimpur kheri
  • nonto
  • 10

    posts

  • 0

    comments

  • 0

    Views

पहला पहला प्यार – संजय कुमार श्रीवास्तव

प्रेम पर आधारित कविता "" पहला पहला प्यार"" पहला पहला प्यार सुहाना होता है बड़े नसीबो वालों को ही मिलता है बस जाए सूरत जिसकी वह भोली सी भुला...

read more

कविता-संजय कुमार श्रीवास्तव

दहेज प्रथा पर कविता भारत के ओ गिरे भेड़ियों इतना तुम क्यों गिरते हो दे देता है पिता इज्जत घर की फिर क्यों दहेज पर मरते हो इतना ना...

read more

कविता-संजय कुमार श्रीवास्तव

कविता गरीब किसान के बेटे ने मां गंगा को संदेश दिया गंगा मां धीरे बहो आगे संतान आपकी है यदि विलय आप कर लोगी तो अस्तित्व खत्म हो जाएगा इतनी...

read more

गुरु के प्रति कविता-संजय कुमार श्रीवास्तव

कविता शिक्षा के प्रति जीवन में अपने शिक्षा का मान समझ लेना करना है कैसे किसका सम्मान समझ लेना शिक्षक से ही मिलेगी शिक्षा बुरे भले की क्या फर्क...

read more

संस्मरण —–: माँ का निःस्वर्थ स्नेह :——संजय कुमार श्रीवास्तव

परिचय मेरे पूजनीय माता पिता एक बहुत ही गरीब परिवार से हैं। जिनका अपना सारा जीवन बड़ी ही कठिनाइयों के साथ बीता पर उन्होंने अपना...

read more
Please wait ...