नवीनतम राजनितिक रचनाएँ

# दिल्ली होगा कब्जे में ......
चिन्ता netam " मन "
# दिल्ली होगा कब्जे में..... इधर-उधर सिर हिलाते बड़ी अदा से हाथ मटकाते , करते दो टके की नेतागिरी देते हैं झूठे आश्वास
50948
Date:
05-07-2022
Time:
12:19
राज नैतिकता कहा गई
Rupesh Singh Lostom
प्रजा तंत्र पराजित लोकतंत्र के अनोखी अलौकिक उन्मूलन से लोकतान्त्रिक अधिकार का हो रहा खूब फायदा कुछ भी बोलो क
50164
Date:
05-07-2022
Time:
10:01
मज़हबी ज़हर बोना ही जिसका धंधा है
Trishika Srivastava
मज़हबी ज़हर बोना ही जिसका धंधा है वो कोई पुजारी नहीं, सियासत-दाँ है इनकी ख़ातिर जो झगड़ रहा आपसदारी में सच पूछिये त
49741
Date:
05-07-2022
Time:
11:15
हमने बाजी ही पलट दी
Karuna bharti
एक- एक कर, हमने बाजी ही पलट दी वक्त मेरे करीब आया, और मे वक्त के करीब पहुँच गई ✍✍✍✍💘💘💘💘
50933
Date:
05-07-2022
Time:
05:24
# तेल लगा के .....
चिन्ता netam " मन "
# तेल लगा के ...... वो तो आए हाथ जोड़कर , हाथ खोलकर चले गए उनकी तो हो जब भी इच्छा , गिरगिट के रंग बदल गए ...! ऐसे ही ये बदल गए ,
48548
Date:
05-07-2022
Time:
08:16
# देशद्रोही / देशभक्त ...
चिन्ता netam " मन "
# देशद्रोही/देशभक्त... धार्मिक राजनीतिक, समाजिक या सरकारी हो ... कोई अमीर हो या चाहे वो कोई भिखारी हो ... अन्य किसी
48063
Date:
05-07-2022
Time:
11:32
# देशद्रोही / देशभक्त ...
चिन्ता netam " मन "
# देशद्रोही/देशभक्त... धार्मिक राजनीतिक, समाजिक या सरकारी हो ... कोई अमीर हो या चाहे वो कोई भिखारी हो ... अन्य किसी
48063
Date:
05-07-2022
Time:
11:32
आत्महत्या
Amrita shrivastav
आई ऐसी विषम परिस्थितिय कर ही लिया एक किसान ने आत्महत्या पूरे जग का है पेट भरता घर घर में हैं चूल्हा जलवाता खुद का घ
40517
Date:
05-07-2022
Time:
01:13
अभ्यास का महत्त्व
Karan Singh
सपनों का सौदागर....करण सिंह✍🏻 🌷🌷* *अभ्यास का महत्त्व* प्राचीन समय में विद्यार्थी गुरुकुल में रहकर ही पढ़ा करते थे।.
39606
Date:
05-07-2022
Time:
11:32
शासन
YOGESH kiniya
शासन शब्द यूनानी भाषा के शब्द "कुबेरनाओ" से लिया गया है जिसका मतलब परिचालन । अर्थात् किसी देश के प्रशासन और कान
36334
Date:
05-07-2022
Time:
09:22
#हमको नेता अब नवल मिले.....
चिन्ता netam " मन "
# हमको नेता अब नवल मिले ... अकल मिले ना इनका शकल मिले पर जहां देखो इनका दखल मिले ...! नेतागिरी , भाषणबाजी दोगलाई , चा
35448
Date:
05-07-2022
Time:
12:18
बो हाथ बदला हैं
Rupesh Singh Lostom
कौन कहता है की देश बदल रहा हैं मुझे तो लगता हैं समाज बिखर रहा हैं तलबार बही हैं बस धार कम हैं काटने वाला गर्दन भ
33881
Date:
05-07-2022
Time:
08:33