Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

Category: साहित्य लाइव पत्रिका

🙄गलवान घाटी चीन का हमला, सरकार का रवैया 🙄🙄

गलवान घाटी की खोज रसूल गलवान ने की ओर वर्ष १०९० में गलवान घाटी की खोज की थी, और चीन ने भारत की हिंसा करके

Read More »
साहित्य लाइव मासिक प्रतियोगिता
sonamoni-Debnath

गलावान घाटी में चीन का हमला और सरकार का रवैया

गलवान घाटी में हिंसा करके चीन ने एक बार फिर किया हमला। लेकिन वह इस बात को भूल गया कि अब 1962 वाले नहीं रहे

Read More »

मासिक प्रतियोगिता जून 2020 के विजेता

नमस्कार साथियों, आप सभी लेखकों का साहित्य लाइव मासिक प्रतियोगिता में अपनी रचनाओं को भेजने के लिए बहुत बहुत आभार ।आप सभी के बहुत ही

Read More »

गलवान घाटी में चीन का हमला- बलराम सिंह

गलवान घाटी जहां गलवान नदी और श्योक नदी की संगम हैं। और वहीं पर पेट्रोलिंग पॉइंट 14 है । जहां चीन और भारत की पेट्रोलिंग

Read More »

लॉक-डाउन से मज़दूरों की दशा, अर्थव्यवस्था व जीवन पर प्रभाव

लॉक-डाउन से मज़दूरों की दशा, अर्थव्यवस्था व जीवन पर प्रभाव मजदूर हूँ । है हाथ में कई छाले इसकी कोई परवाह नहीं। है पैरों में

Read More »

लॉकडाउन में मजदूरों की स्थिति और आर्थिक व्यवस्था पर उसका प्रभाव

मैं आज सड़कों पर आ खड़ा था, क्योंकि मेरी जिम्मेदारियों का बोझ बढ़ा था। मनुष्य की आकांक्षाए जब बड़ी होती हैं तब वह प्रकृति को

Read More »

मजबूरी

कुछ पंक्तियों में कैसे कह दूं, मजदूरों की दुःख दीन दशा। सैकड़ों कहानियां बन गई है इनकी हाय! जन्मी कैसी ये करूण महाव्यथा। मजदूर,जो आधार

Read More »

मजबूरी,कुछ पंक्तियों में कैसे कह दूं

कुछ पंक्तियों में कैसे कह दूं, मजदूरों की दुःख दीन दशा। सैकड़ों कहानियां बन गई है इनकी हाय! जन्मी कैसी ये करूण महाव्यथा। मजदूर,जो आधार

Read More »

अर्थव्यवस्था , मजदूरों पर घात हुआ है दुनिया में

जबसे covid राक्षस का प्रभात हुआ है दुनिया में! इंसानो पर दिन में भी अब रात हुआ है दुनिया में!! नीद में सोता रोज़गार भी,लॉक

Read More »
Hindi
Rakhi-Mehrotra

लाक डाउन में मजदूरों की दशा और अर्थव्यवस्था और जीवन पर प्रभाव

हमारे देश के किसान और मजदूर हमारे देश की धरोहर है। किसान हमें रोटी देता है, मजदूर हमें कपड़ा और जूते बनाता है जो हमारी

Read More »
Hindi
Balram-Singh

मजदुर जो किसी भी देश के निव है।

मजदुर जो किसी भी देश के निव है। देश की भविष्य इन्हीं पर निर्भर करती है। इनके बिना कोई भी कार्य सम्भव नहीं है। चाहे

Read More »