Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

कन्या भ्रूण हत्या ::: एक अभिशाप-नंदिता

जन्म से पहले, गर्भ में मारे
ये अपना समाज हैं
लड़की कह कर ये धुत्कारे,
ये अपना समाज हैं

   माँ भी चाहिये, बहन भी, और चाहिये पत्नी भी इनको
   पर बेटी होना इनके लिए अभिशाप हैं अपमान हैं

बेटी हैं तो गिरवा दो उसको, यह एक आम सी बात है
इस दुनिया में बेटी होना, क्या एक अपराध हैं

    ऐ दुनिया वालो आज ये सुन लो 
    बेटी कोई अपमान नहीं
    बेटी ना होगी तो इस दुनिया का कोई नाम नहीं

ऐ समाज के ठेकेदारो, इतना तुम जान लो
इस भ्रूण हत्या को आज तुम, जड़ से मिटा दो

  वरना एक समय ऐसा भी होगा इस खुबसूरत दुनिया में
  इंसानी जीवन नही रहेगा इस प्यारी सी दुनिया में
  अगर प्रतिष्ठि चाहते हो तुम इस इंसानी जीवन की 
  मिटा दो जड़ से भ्रूण हत्या को और पाओ तरक्की।

“save the girl child, and live a good life”

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp