Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

पिंजरे के परिंदे-बलराम सिंह

बंद पिंजरे के तू परिंदे,इठलाता किस बात से
एक दिन तू भी उर जाएगा,माया के इस जाल से।

मात पिता और सखा सम्बन्धी,ये सब क्या तेरे अपने हैं
आंख खोल कर देख जरा तू,ये सब तो एक सपने हैं।

मिट जाएंगे सब कुछ तेरा,अंधियारे संसार से।

क्या तूने खोया जग में,क्या तूने पाया है
मानव बनके आया जग में,दानव क्यों रह पाया है।

सब कुछ रह जाएंगे यही पर,जब जाएगा जान से।

क्या करने तू आया जग में,क्या करके तू जाएगा
तेरे कर्मो की सब मालिक,सजा तुम्हे सुनाएगा ।

अब भी वक्त तुझे हैं मानव,नता जोड़ भगवान से।

बंद पिंजरे के तू परिंदे,इठलाता किस बात से
एक दिन तू भी उर जाएगा,माया के इस जाल से।

116 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Balram-Singh

Balram-Singh

मै प्राथमिक शिक्षा अपने गांव बैद्यनाथ पूर से किया 10 वीं की शिक्षा ओंकार उच्च विद्यालय सुपौल बिरौल से की इंटर की शिक्षा जनता कोसी महा विद्यालय से की मुझे 16 वर्ष की उम्र से ही कविता लिखने का शौक रहा है 2010 से लेकर अभी तक कई सारे रचनाए हमने लिखी है अभी फिलहाल हम मुंबई में जॉब करते हैं और समय मिलने पर कविता भी लिखते हैं

Leave a Reply

महफ़िल में उनकी जाये कई रोज हो गए-आशु_लाइफ_रेसर

महफ़िल में उनकी जाये कई रोज हो गए किस्सा सुने सुनाये कई रोज हो गए वो रूबरू हुये थे ज़माना गुजर गया हमको भी मुस्कराये

Read More »

Join Us on WhatsApp