मजा आया या नहीं – चेतन वर्मा

मजा आया या नहीं – चेतन वर्मा

तुझे सुकून मिला या नहीं मुझे पता नहीं …😏 दही मक्खन लगाकर जो प्यारी बातें करी तुमने उनमें लाल मिर्च का तड़का लगा कर मजा आया या नहीं….😁 चिकनी चुपड़ी बातें करके मासूम दिल के साथ क्रिकेट खेलें खेल में बाउंसर बोलो पर मजा आया या नहीं….😁 फेरन लवली की आड़ में पाउडर से दिखावटी
Complete Reading

रूठ गया मेरा बाबू – चेतन वर्मा

रूठ गया मेरा बाबू 😣 मनाऊं भी तो कैसे जज्बात अपने दिल❤ के बताऊं भी तो कैसे बार-बार कह रहा है दिल मेरा पास आ जाओ सिमट जाओ मुझ में और दिल में समा जाओ तेरे इंतजार में दिल हो रहा है बेकरार कब से लड़ो मुझसे झगड़ों मुझसे पर कभी दूर ना रहना मुझसे
Complete Reading

पिया रे – चेतन वर्मा

तेरा मोह झूठा …. पिया रे …😍 झूठे हैं इरादे तेरे झूठी तेरी मुस्कुराहट रे झूठे लोगों की बातें झूठी तेरी दुनिया रे , पक्की डोर से बंधा रिश्ता अब लगता कच्चा रे , किस शख्स पर यकीन करूं समझ नहीं आता रे , प्यार की मिसाल बना ताजमहल बेकसूरों के हाथ कटवाता है रे
Complete Reading

ओह साथिया – चेतन वर्मा

ओह साथिया…..😚 जाऊं तो जाऊं कहां…..🤔 तेरे बिना मेरा कोई नहीं यहां…..😔 ना दूरी सही जाती है , ना बात किए बिना रहा जाता है , तेरा मेरा रिश्ता कुछ अजीब है , तू रुठ जाएं तो मनाने में चला आता हूं , मैं रूठ जाऊं तो साथ देने तू चली आती है , कुछ
Complete Reading

सोना बाबू – चेतन वर्मा

तू मेरा सोना है , तू ही मेरा बाबू है, तू मेरी जान है , तेरे दिल के कोने में बसता मेरा ही नाम है तू मेरी धड़कन है , तू ही मेरा दिल है , तू वक्त का मिजाज है , तेरी रूह के किस्से में बसता मेरा ही ख्वाब है तू मेरी रानी
Complete Reading

हंसाया क्यों – चेतन वर्मा

जब रुलाना ही था तो हंसाया क्यों हंसा दिया तो गले लगाया क्यों गले लगा कर भी आंसू बहाए क्यों आंसुओं से कीमत अदा करते हो क्यों अदा करना ही था तो दिल दुखाया ही क्यों माटी के मिट्टी को महक बनाया ही क्यों वक्त कटे ही रहा था हाथ मिलाया ही क्यों प्यार बेइंतहा
Complete Reading

मेरी मां – चेतन वर्मा

मां तो मां होती है जैसी भी होती है मां तो मां होती है अपनी ममतामई माटी की सजी होती है आसमान जैसे दिल की राशि होती है दुख देखकर पली-बढ़ी होती है जैसे भी होती है मां तो मां होती है सब दुखों को हर कर बड़ी होती है अपने ही आंगन में खुश
Complete Reading

पापा – चेतन वर्मा

अगर मैं कुछ भी हूं तो सब कुछ है पापा हर राह हर मोड़ पर साथ देते हैं पापा जान कर भी बेइंतहा प्यार देते हैं पापा जाने अनजाने में हुई गलती को माफ कर देते हैं पापा उंगली पकड़ कर चलने का हुनर सिखाते हैं पापा गुस्सा कर कर भी हर जिद पूरी करते
Complete Reading

दिल का हाल बेहाल – चेतन वर्मा

मत पूछ मेरे दिल का हाल बेहाल है जब से नजर से नजर मिली तब से रहूंगा सीने में धड़कन बनकर होठों की मुस्कान और यादों का कोहरा बनकर चांद की चांदनी और पूनम की रात बनकर ओस की बूंद और आंखों की नमी बन कर मत पूछ मेरे दिल का हाल बेहाल है जब
Complete Reading

चाॅद मेला – चेतन वर्मा

चाॅद मेला नाराज़ है … पल-पल हर पल लडता है … नासमझें वो नदान है … दिल से प्यार जो करता है … कैसे उसको समजझाऊ …. पागल रूह पर मरता है … खुश्बू कैसे पहचानु … जान-ए-जिगर में बसता है … कैसें उसको बतलाऊ … हालत से पगला अनजान है …. कब तक उसको
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account