ओ सनम …❤(चेतन वर्मा)

Get Website for Your Business, we're here for you!
DishaLive Web Design & Solutions

ओ सनम …❤(चेतन वर्मा)

नगमे इश्क के हम गा नहीं सकते अफसाने दिल के हम सुना नहीं सकते वैसे तो गुलाब भी कांटों के बीच रहता है फिर तुम ही बताओ ओ सनम … टूटकर नहीं चाहे तो कैसे चाहे तुमको जिक्र मोहब्बत का हम कर नहीं सकते प्यार है कितना हम बता नहीं सकते वैसे तो शांत सागर
Complete Reading

चांद🌛मेला..II [चेतन वर्मा]

चांद मेरा उस्ताद है आशिक उसका बीमार है कैसे उसको समझाऊं दिल देकर वह मेरे से ज्यादा परेशान है चांद मेरा उस्ताद है … दिन में सपनों में खोता है रात को करवट बदल-बदल कर रोता है हालत क्या से क्या हो गई उसकी सिर के नीचे रखें तकिए को आंखों पर रख कर सोता
Complete Reading

खास दिन पर…💞 (चेतन वर्मा)

इस खास दिन पर कुछ खास लिख रहा हूं.. राधा संग कृष्ण का नाम लिख रहा हूं अल्फाजों का मोहताज नहीं है मेरा प्यार दिल से आज मैं यह बयां कर रहा हूं इस खास दिन पर कुछ खास लिख रहा हूं.. व्यस्त हूं जिंदगी में बेइंतहा पार्टनर को दिन-रात समय दे रहा हूं प्यार
Complete Reading

जिंदगी…💕 [चेतन वर्मा]

आईना होती है जिंदगी कांच साफ करके मत गवाइए देखिए खुद को आईने में गौर करके खुद ही बढ़ बढ़ाइए कुछ शब्द तारीफों के बांधकर कांच के आगे आंसू मत बहाइए ताकत रखकर जिगर में खुद ही खुद से यूं टकराइए आईना मुड़कर पुकारे ऐसा मुस्कुराइए दुख से भरी जिंदगी को आईना तो दिखाइए खुद
Complete Reading

ए मेरे दोस्त…😊[चेतन वर्मा]

ठोकरें जब भी लगी साथ पाया तेरा हाथ में हाथ डाल चलना सिखाना तेरा लबों पर बात थी जो दिल में सजा ना तेरा रूखे चेहरे को हंसाना सिखाना तेरा ए मेरे दोस्त , मेरे दोस्त शुक्रिया-शुक्रिया तेरा… जब भी तनाव का माहौल बना गुलाब शा महकाना तेरा जुदाई के गम में भी मुस्कुराना सिखाना
Complete Reading

सूरज की सरगम.. [चेतन वर्मा]

सूरज की सरगम पर यू चमक तो रही हूं लाल लाल किरणों सें यू खेल तो रही हो … ताजगी का अहसास धड़कन से कर तो रही हो कभी हमें इजाजत तो दो तुम्हारे दिल के किसी कोने में बसने की तेज किरण बनकर सताएंगे जरूर कभी छांव बनकर लाड लड़ाएंगे जरूर दिल में बसाना
Complete Reading

हिंदू और मुसलमान…[चेतन वर्मा]

दिवाली में अली बसे राम बसे रमजान में सोच कर सोचो कैसे भेद करें हिंदू और मुसलमान में हिंदू के घर मीट बनी खीर पूरी बनी मुसलमान के सोच कर सोचो कैसे भेद करें हिंदू और मुसलमान में केसरिया ध्वज हिंदू पहराए मुसलमान हरा ध्वज लहराए तिरंगे जैसा दिल हो जिनका सोच कर सोचो कैसे
Complete Reading

एक दिन हां एक दिन..[चेतन वर्मा]

वह मेरी दुल्हन बन जाएगी मैं उसका दूल्हा बन जाऊंगा एक दिन हां एक दिन… वह मुझ में खो जाएगी मैं उस में खो जाऊंगा ढूंढते रहेंगे एक दूजे को एक दूजे में एक दिन हां एक दिन… वो रूठ कर बैठ जाएगी मैं मना ने चलाऊंगा गुस्से में बहुत कुछ सुनाएगी फिर भी मैं
Complete Reading

दो जिस्म एक जान..💞[चेतन वर्मा]

कुछ इस तरह दो जिस्म-एक जान मिल रहे हैं… चुपके-चुपके दो अजनबी इंसान मिल रहे हैं साहिल की रेत पर पद चिन्हों के मार्क मिल रहे हैं जलपरी की शान में नेकदिल इंसान मिल रहे हैं सीना ठोक कर खड़े कागज के पुरस्कार मिल रहे हैं नोटों पर ही सही जीरो के निशान मिल रहे
Complete Reading

मोहब्बत नाम है कैसा… (चेतन वर्मा)

अगर कोई तुमसे पूछे मोहब्बत नाम है कैसा तो हस कर बता देना दिल में राज छुपा है ऐसा… जब जब धड़कती है तू महकता रहता हूं मैं सांसो पर पहरा डाल कर बैठा रहता हूं मैं तू हरदम बहती मेरे मन में लगता है ऐसे जैसे पावन गंगा हे तु अगर कोई तुमसे पूछे
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account