Notification

Pushkar Kumar

वृक्ष का महत्व-पुष्कर कुमार

जीव का आधार पृथ्वी का धरकन मनुष्य का जिवन संसार का रक्षक है वृक्ष । चलते राहगीर का छाव फल-फुल का भंडार पशु-पंक्षी का आशर्य वर्षा और बाढ़ का रक्षक है वृक्ष । ईश्वर का उपहार औशधियों की खान सुन्दर बागो का शान रितुओ का आन है वृक्ष । ओष्टो (होठो) का मुस्कान भुखों का …

वृक्ष का महत्व-पुष्कर कुमार Read More »

आरक्षण- पुष्कर कुमार

वर्तमान समय में अगर कोई मुद्दा पर ध्यान दिया जा रहा है तो वह है,आरक्षण जिसका इतिहास 1882 से शुरु होता है,जिसमें ज्योतिराव फुले ने सभी के लिए नि:शुक्ल और अनिवार्य शिक्षा की माँग की थी।बड़ोदा और मैसूर में यह प्रावधान पहले से ही लागू था,1908 में अंग्रेजो द्वारा पहली बार देश के प्रशासन में …

आरक्षण- पुष्कर कुमार Read More »

नदी से सिख-पुष्कर कुमार

कल कल करती धारा नदी का बहती जा रही वह देखो पर्वतो से निकली हरी-भड़ी खेतो को सिंचती बड़े बड़े शहरो से होकर बढती है,आगे की ओर। रूकना इसे नही आती थकना भी नही आती । बड़े-बड़े चट्टानो से टकराती आँधी-तूफान, बाढ़-बवंडर, सारा कुछ यह सहती है फिर आगे की ओर बहती है । पंछी, …

नदी से सिख-पुष्कर कुमार Read More »

शिक्षको का सम्मान करो-पुष्कर कुमार

किसी भी मनुष्य के जिवन मैं माता-पिता से ज्यादा शिक्षक का महत्व होता है,क्योकि माता-पिता तो बच्चो को जन्म देते है,और पाल-पौष कर बड़े करते है। पर दुनिया मे कैसे जिया जाए,किस व्यक्ति से क्या व्यवहार किया जाए,रहन-सहन कैसा हो यह शिक्षक ही सिखा सकता है। शिक्षक अगर द्रोणाचार्य तथा चाणक्य जैसा हो और विद्यार्थी …

शिक्षको का सम्मान करो-पुष्कर कुमार Read More »

स्वस्थ्य व्यक्ति-पुष्कर कुमार

मनुष्य का सबसे बड़ा धन स्वास्थ्य है,एक स्वस्थ मनुष्य ही जिवन की नई ऊँचाई छु सकता है । अगर मनुष्य बिमार पड़ जाए ,तो फिर जिंदगी में एक कदम भी आगे नही बढ़ सकता, बिमार पड़ने से सिर्फ एक व्यक्ति ही कष्ट में नही पड़ता बल्की उसका पूरा परिवार कष्ट में पड़ जाता है,जिसमें शारारिक …

स्वस्थ्य व्यक्ति-पुष्कर कुमार Read More »

तिरंगा-पुष्कर कुमार

मेरी पहचान है, तिरंगा मेरी अरमान है,तिरंगा मेरी शान है,तिरंगा मेरा दिल है, तिरंगा मेरी जान है, तिरंगा । आजादी की यादे है,तिरंगा वीर सपुतो की धड़कन है,तिरंगा किसान मजदूरो की पहचान है,तिरंगा भारत माँ की आँचल है, तिरंगा । गाँधी की आजादी है,तिरंगा विवेकानन्द की प्रेरणा है,तिरंगा सुभाष,भगत,चंद्रशेखर आदी वीर की यादे दोहराता है, …

तिरंगा-पुष्कर कुमार Read More »

धरती माँ-पुष्कर कुमार

आओ भाई हम सब मिलकर बचाये इस धरती माँ को और बनाये स्वच्छ, सुंदर,मनमोहक, और प्रकृति से पूर्ण हरा-भरा । संकट मे पड़ी धरती माँ देखो जहरीला बन रहा , इनकी नीर ,भयावह प्रदुषण हुआ भाई इनकी आँचल । खेलते हम सब मिलकर इनकी आँचल में ,कैसे बच पायेंगे भाई अगर अब न सुधरे तो …

धरती माँ-पुष्कर कुमार Read More »

राजनीति का वास्तविक अर्थ-पुष्कर कुमार

किसी भी देश को सुचारु रुप से चलाने के लिए, एक प्रशासन की आवश्यक्ता पड़ती है, जिसमे कुछ सदस्य मिलकर उस देश के हित-अनहित हेतु कई प्रकार के फैसले लेने पड़ते है । इसके लिए जरुरी पड़ने पर कानून भी समय-समय पर बनाने पड़ते है। और इसके फैसला पर देश का भविष्य निर्भर करता है …

राजनीति का वास्तविक अर्थ-पुष्कर कुमार Read More »

शिक्षत युवा वर्ग की समस्या-पुष्कर कुमार

जिस युवा शक्ती के लिए भारत विश्व मे जाना जाता है ,उसी युवा वर्ग की स्थति बहुत ही दैनिय होता जा रहा है। श्रमिक वर्ग तो शारीरीक काम कर किसी तरह अपना जिवन चला ही लेते है ,लेकिन शिक्षित वर्ग के लिए एक समस्या का विषय बना हुआ है । क्योंकि जीविका के अभाव में …

शिक्षत युवा वर्ग की समस्या-पुष्कर कुमार Read More »

समस्या कश्मीर का-पुष्कर कुमार

हम सभी जानते है कि हमारे देश भारत में, कुल 29 राज्य और 7 केंद्र शासित राज्य है । लेकिन इन सभी राज्यो में जितना जम्मू और कश्मीर में,आतंकवाद,पत्थरवाजी और भर्ष्टाचार्य आदि समस्या से ग्रसित है।उतना कोई अन्य राज्य नहीं, और यह कोई नविन समस्या नही बल्की आजादी के समय से हीं एक समस्या का …

समस्या कश्मीर का-पुष्कर कुमार Read More »

किसान भाई – पुष्कर कुमार

भारत हीं नही संम्पूर्ण विश्व के अमीर लोग,जो एेसो-आराम की जिंदगी जीते है,एयर-कंडिसन से कभी बाहर तक नही निकलते,मोटर कार या हवाई जहाज मे घुमते है । अपने आप को अमीर बताते है,जो कि वास्तव मे अमीर है नही ,यह तो दुनिया के लिए दिखावे मात्र है। हद तो इस बात की है कि कुछ …

किसान भाई – पुष्कर कुमार Read More »

आओ वृक्ष लगाये – पुष्कर कुमार

आओ मिलकर वृक्ष लगाये बंजर धरती फिर से हरा करे प्रदुषण हुआ जो सारा संसार उन्हे एक नविन जिंदगी दे । पृथ्वी की गहना है वृक्ष इसे बचाना है कर्तव्य हमारा तभी होगा भला संसार का तभी जिंदगी जियेंगे हम सब । वृक्ष से है,गहरा नाता सबका सांसो का है नाता सभी का भोजन भी …

आओ वृक्ष लगाये – पुष्कर कुमार Read More »

Join Us on WhatsApp