Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

Sanjay Singh Rajput

बचाता रहा हूं मैं- संजय सिंह राजपूत

बचपन से बस एक यही तो पाता रहा हूं मैं। अपनों से हमेशा ही धोखा खाता रहा हूं मैं। मुझे खुशी है कि आज मैं भी दादा बन गया, नया क्या है कभी किसी का पोता रहा हूं मैं। आज जो सड़कों पर धरना प्रदर्शन कर रहे हो, भूल गए क्या तुम्हारे जमाने में तोता …

बचाता रहा हूं मैं- संजय सिंह राजपूत Read More »

देश के का होई -संजय सिंह राजपूत

चाय से ही चलल रहे मोदी जी के सरकार, दौरे पर दउड़त रह गईले प्रधानमंत्री हमार। विकास के मम्मी कही राह भटकली देश में, जबसे राहुल घूमे लगले पाखंडी के भेष में। लड़की भाव खाता लो लड़का लो खाता धोखा, झाड़ फूंक सब बंद भइल जेल गइल लो शोखा। मंत्री खाले दूध मलाई जनता खाय …

देश के का होई -संजय सिंह राजपूत Read More »

साहब जी-संजय सिंह राजपूत

जन्मदिन या शादी सब पर रोक लगा दो साहब जी, नेताओं के जीत के जश्न पर रोक लगा दो साहब जी। यह हम भारतीयों का प्राचीन उत्सव ना मिटने पाए, न्यायायल से उठते विश्वास पर रोक लगा दो साहब जी। अंटार्कटिका का बर्फ अगर पिघलता है तो पिघलने दो, संस्कृति ज्ञान पर बच्चों के ना …

साहब जी-संजय सिंह राजपूत Read More »

संसद में-संजय सिंह राजपूत

भारत के संविधान का अपमान करते हैं संसद में, खाते हैं शपथ, बचाऊंगा भारत की लाज हर हालत में। पर अफसोस, लानत है, उस प्रतिनिधि नरेश का, जो करता इज़्ज़त तार – तार, बैठ भरी उसी संसद में।। ।। कैसे – कैसे लोग पहुंच गए हैं संसद में ।। भारत के वीर सपूत पर हुए …

संसद में-संजय सिंह राजपूत Read More »

।। गद्दार आजादी मांग रहे हैं ।-संजय सिंह राजपूत ✍️

।। गद्दार आजादी मांग रहे हैं ।। रो रहा देश है दिल्ली, जेएनयू के कर्णधारों से। ऊपज गए हैं कई गद्दार, जेएनयू के खलिहानों से। गद्दार आजादी मांग रहे हैं, सड़कों और चौबारों पर, मनाते हैं मातम अब ये, नये साल जैसे त्यौहारों पर।। रोते होंगे बाबा साहेब आज, दलितों के हाहाकारों पर, भारत तेरे …

।। गद्दार आजादी मांग रहे हैं ।-संजय सिंह राजपूत ✍️ Read More »

।। संसद में ।।- संजय सिंह राजपूत ✍️

भारत के संविधान का अपमान करते हैं संसद में, खाते हैं शपथ, बचाऊंगा भारत की लाज हर हालत में। पर अफसोस, लानत है, उस प्रतिनिधि नरेश का, जो करता इज़्ज़त तार – तार, बैठ भरी उसी संसद में।। ।। कैसे – कैसे लोग पहुंच गए हैं संसद में ।। भारत के वीर सपूत पर हुए …

।। संसद में ।।- संजय सिंह राजपूत ✍️ Read More »

इज्जत बचाने वाले ही गुनहगार – संजय सिंह राजपूत

। इज्जत बचाने वाले ही गुनहगार क्यों । राजेश गर्मी से बहुत परेशान हैं। वह शहर में रहता है। पिछले महीने वह गांव घूमने के लिए आया है। उसे गांव के लोग, संस्कृति, सभ्यता, एकता से बहुत प्यार है। इसी कारण हर दो वर्षों में गांव घूमने आया करता है। गांव में रोहित उसका बहुत …

इज्जत बचाने वाले ही गुनहगार – संजय सिंह राजपूत Read More »

।। गणपति बप्पा ये क्या हो रिहा ।। – संजय सिंह राजपूत

हे! गणपति बप्पा मोरया, भारत में देखो क्या हो रिहा, प्रधानमंत्री के हत्या की साज़िश भारत में ही हो रिहा। जिनके पूर्वज मरे थे ऐसे ही पर उनको भी शंका हो रिहा, प्रधानमंत्री की हत्या के साजिश पर भी राजनीति हो रिहा। हे! गणपति बप्पा मोरया, भारत में देखो क्या हो रिहा।। गर रहना है …

।। गणपति बप्पा ये क्या हो रिहा ।। – संजय सिंह राजपूत Read More »

फिर मोदी की सरकार – संजय सिंह राजपूत

चाहे मायका हो या ससुराल, बार बार आये मोदी सरकार। चाहे मचे विपक्ष में हाहाकार, मोदी कलयुग के पालनहार। विपक्ष बनाये चाहे जो औजार, या लगाये गठबंधन का बाजार। भाजपा है हिंदुत्व की वफादार, सर्व हिंदुओं का होगा बेड़ा पार। जेडीएस ने लिया पद संभाल, राहुल हो गये पिछलगु इस बार। संजय सिंह राजपूत बलिया, …

फिर मोदी की सरकार – संजय सिंह राजपूत Read More »

बनना चाहते हैं हैवान तो फिर इन्सान बनाये कौन ? – संजय सिंह राजपूत

बनना चाहते हैं हैवान तो फिर इन्सान बनाये कौन ? डूब गये आधुनिकता में, नैतिकता का पाठ पढ़ायें कौन, बन रहा वीडियो घायल का अस्पताल लेकर जाये कौन। मानव बना तराजू अब हर रिश्ते को पहले तौलता है, ठीक नहीं यह आदत उसकी, भला उसको बतलाए कौन। बनना चाहते हैं हैवान तो फिर इन्सान बनाये …

बनना चाहते हैं हैवान तो फिर इन्सान बनाये कौन ? – संजय सिंह राजपूत Read More »

हे! ईश्वर मुझे नेता बनवा दो – संजय सिंह राजपूत

हे! ईश्वर ऐसा वर दो मैं भी नेता बन जाऊं। घोटाले पर घोटाला कर संपत्ति अथाह जुटाऊं। अपना सारा कालधन विदेशों में जमा कराऊं। गाड़ी, बंगला लेकर मैं, परियों संग मस्ती उड़ाऊं। चुनावी वादों को मैं पांच साल के लिए भूल जाऊं। जनता मुझसे सवाल ना करें ऐसा मैं धमकाऊं। जहां जिनकी जनसंख्या हो धर्म …

हे! ईश्वर मुझे नेता बनवा दो – संजय सिंह राजपूत Read More »

कुर्सी का खेल – संजय सिंह राजपूत

राम आपके देश में अब न जाने क्या क्या चल रहा है, सबका साथ सबका विकास जातिवादियों को खल रहा है। जाति वर्ग में बंटकर राम आपका जन्मभूमि जल रहा है, शिक्षित युवा स्वरोजगार का पकौड़ा तल रहा है। दलित शोषित के नाम पर दंगा भी करवाते हैं, सच बोलने वाले विशेष दल का भक्त …

कुर्सी का खेल – संजय सिंह राजपूत Read More »

Join Us on WhatsApp