हिम्मत तो है (गजल) by राहुल रेड

जिंदगी की जंग जीत जाने की हिम्मत तो है
रोजगार ना सही पर कमाने की हिम्मत तो है
वक्त बेवक्त मिले फिर भी कोई गम नही
सूखी रोटी ही सही खाने की हिम्मत तो है
महलों में रहने की “राहुल” तेरी औकात नही पर
तिनका-तिनका जोड़, घर बनाने की हिम्मत तो है
डूब गयी पतवारें लेकिन हौसला अभी बाकि है
कश्ती को साहिल तक पहुँचाने की हिम्मत तो है
काट डालो जुबान चाहें शायर की आज तुम
हकीकत को कलम से बताने की हिम्मत तो है
सत्ता के गलियारों में भ्रष्ट सरकारों के खिलाफ
अकेली आवाज ही सही उठाने की हिम्मत तो है।
Rahul Red
नाम- राहुल रेड
पता- फर्रुखाबाद यूपी
मोबाईल नम्बर: 80043 52296
हिम्मत तो है (गजल) by राहुल रेड
5 (100%) 1 vote

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति
0
comments

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account