प्रेम की कविता – सचिन ओम गुप्ता

प्रेम की कविता – सचिन ओम गुप्ता

तुम्हे तुमसे भी ज्यादा चाहने लगा हूँ,
तुम्हे तुमसे भी ज्यादा जानने लगा हूँ |

जब से तुमको देखा है मेरी दुनिया ही बदल गई,
ख्वाबों ने लिया ऐसा रूप और तुम मेरी बन गई |

चलो आओ एक नए रिश्ते की बुनियाद रखते है हम-तुम,
प्यार के इस राह में एक बार खुद को आजमाए हम-तुम |

जब से तुम मेरे जीवन में हो आई,
मुझे हर चीज बदली सी दे रही है दिखाई |

अब तो मैं तेरी चाहत की खुशबू से अपनी सांसो को महकाता हूँ ,
देखता हूँ जब भी आईना तुझको ही सामने पाता हूँ |
आओ अब उम्र भर के लिए एक-दूजे के हो जाए हम-तुम,
इस रिश्ते को मजबूत बनाए हम-तुम |

 Sachin Om Guptaसचिन ओम गुप्ता,
चित्रकूट धाम

प्रेम की कविता – सचिन ओम गुप्ता
3 (60%) 2 votes

0
साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account