Notification

मनोरंजन

चुटकुला श्रवण सोनी-शार्वन-सोनी

“😳एक माँ हाथ में हथौड़ा लिये, अपने बेटे के स्कूल में पहुंची !! 😜और चपरासी से पूछ्ने लगी :– 😳”शुक्ला सर” की क्लास कौन सी है?”?? 😜”क्यों पूछ रही हैं?” हथौड़े को देखकर,चपरासी ने डरते हुए पूछा ??? 😳”अरे वो मेरे बेटे के क्लास टीचर हैं ।” हथौड़ा हिलाते हुए,वो औरत उतावलेपन से बोली। 😳चपरासी …

चुटकुला श्रवण सोनी-शार्वन-सोनी Read More »

चुटकुल

मुझे लिखने का बहुत सोख है इस लिए मै ने बगल वाले दुकान पर लिख दिए कि यहाँ पुरी समान विकि हुई है😁😁😁😁

चुटकुल

पत्नी, ए जी आप जयमाला के समय मेरी दीदी को माला क्यो पहनेय पति , बिना मेहनत किये दो बच्चों के बाप बनना था इस लिए😁

चुटकुल

पत्नी, ए जी आप जयमाला के समय मेरी दीदी को माला क्यो पहनेय पति , बिना मेहनत किये दो बच्चों के बाप बनना था इस लिए😁

नवरा असावा कसा-रीना

नवरा असावा कसा नवरा असावा कसा , रसगुल्यात असतो पाक जसा मी म्हणेल ते करणारा , डोक्यावर घेऊन नाचणारा ईच्छा सर्व करेल पूर्ण , पोट दुखेल तर खाईल चूर्ण हंड्याणे तो भरतो पाणी , मी उगीच हसते माझ्या मणी (1) नवरा असावा कसा , रसगुल्यात असतो पाक जसा शरीर उंच , गाल छान , हसतो …

नवरा असावा कसा-रीना Read More »

शादी से पहले– और शादी के बाद / नमन कुमार कवि

———– हास्य कविता———– लड़का: शुक्र है भगवान का इस दिन का तो मे कब से इंतजार कर रहा था। लड़की : तो अब मे जाऊ? लड़का : नही बिल्कुल नही। लड़की : क्या तुम मुझसे प्यार करते हो? लड़का : हा करता था करता हूं करता रहूगा। लड़की : कभी मेरे साथ धोखा करोगे ? …

शादी से पहले– और शादी के बाद / नमन कुमार कवि Read More »

व्यंग्य-कथाःः कुकुरप्रेमी श्रीमान-वीरेंद्र देवांगना

व्यंग्य-कथाःः कुकुरप्रेमी श्रीमानःः श्रीमानजी को कुकुर प्रेम का खानदानी बुखार था। वे शान से कहा करते थे कि उनके बाप-दादों के पास ऐसे-ऐसे विदेशी नस्ल के कुत्ते थे, जिसको देखकर पड़ोसी जल-भुनकर कोयला हो जाया करते थे और वे कुत्तों को भोंका करते थे। पड़ोसी-तो-पड़ोसी; उनके बाप-दादों के श्वानप्रेम की खातिर उनकी मां व दादी …

व्यंग्य-कथाःः कुकुरप्रेमी श्रीमान-वीरेंद्र देवांगना Read More »

पुरस्कार गपियन का-पदम् सेन

क्या करु सोच रहा था मन में तभी एक हवा का झोंका आया आंगन में ऐसी खुशबु महक रही थी जैसे खड़ा हु चमन में दाएं देखा बाए देखा फिर देखा उपर गगन में दौड़ के गया बाहर गलियन में आप भी आ गए मेरी बतियन में मुझको तो पुरस्कार मिला हुआ है गपियन में

पुरस्कार गपियन का-पदम सेन

क्या करु सोच रहा था मन में तभी एक हवा का झोंका आया आंगन में ऐसी खुशबु महक रही थी जैसे खड़ा हु चमन में दाएं देखा बाए देखा फिर देखा उपर गगन में दौड़ के गया बाहर गलियन में आप भी आ गए मेरी बतियन में मुझको तो पुरस्कार मिला हुआ है गपियन में

व्यंग्य-लेखःः इंटरनेट पर साहित्य-सम्मेलन-वीरेंद्र देवांगना

व्यंग्य-लेखःः इंटरनेट पर साहित्य-सम्मेलनःः साथियो, आपको यह जानकर खुशी होगी कि मैंने एक इंटरनेट गु्रप का गठन कर रखा है, जिसमें वे सभी कवि सम्मिलित हो सकते हैं, जो कविता करना जानते हैं। गु्रप का नाम है-‘इंटरनेट पर साहित्य।’ मित्रो, आजकल साहित्यकारों की हालत पतली हो गई है। वे लिख-लिखकर परेशान हैं, लेकिन उनकी किताबों …

व्यंग्य-लेखःः इंटरनेट पर साहित्य-सम्मेलन-वीरेंद्र देवांगना Read More »

सुबह न उत पाने का दर्द-नीतू सिंह

जनाब पिछले कई वर्षों से झेल रहे, सुबह ना उठ पाने का दर्द । सुबह देर से उठने के बाद, अगले दिन का पूर्ण उत्साह चरम पर । जोश जुनून से फिर वादा खुद से पक्का, कल से जल्दी उठेंगे ,करेंगे ऐसा नया काम। कि जमाने में होगा बड़ा ही नाम । खयालों का पुलाव …

सुबह न उत पाने का दर्द-नीतू सिंह Read More »

Join Us on WhatsApp