Join Us:
20 मई स्पेशल -इंटरनेट पर कविता कहानी और लेख लिखकर पैसे कमाएं - आपके लिए सबसे बढ़िया मौका साहित्य लाइव की वेबसाइट हुई और अधिक बेहतरीन और एडवांस साहित्य लाइव पर किसी भी तकनीकी सहयोग या अन्य समस्याओं के लिए सम्पर्क करें
शब्दों में तुझको उतारा, हुआ प्रेम जब मेरा विह्वल। मालाओं में तुझको पिरोया, तेरी एक निर्णय ने, मेरा सब कुछ छीना। पड़ी गांठ जब दिल पर मे read more >>
दर्द सहने की आदत, कुछ इस तरह हो गई। सुबह का दर्द शाम तक, पुरानी हो गई। क्या तोड़ोगे टूट कर, निखरने वालों को। आग की तपिश भी, अब शीतल लगने read more >>
इस मसले का हल कहाॅं से लाएं? जो नहीं तकदीर में उसे किससे लिखवाएं? बंधे रह जाते हैं मन्नतों के धागे, धागों में बंधने की तकदीर किससे पाएं? read more >>
कई- कई का, है बेशर्मी में सार। कर बेहयाई, समझे चतुराई, बनते डेढ़ होशियार। उसकी तो है उतरी हुई, औरों की झट ले उतार। एक नकटा, सौ पर भारी read more >>
जब भी हुआ,तुम हर एक मोड़ पर साथ रहे। मुश्किल भरी राहों में तुम सदा मुझसे आगे रहे। तुमने बनाई मेरे दिल में जगह, यही है सच्चाई। थोड़ा सा प read more >>
कभी दुआ करती थी उससे दूर जाने के लिए और आज जब रब ने मेरी दुआ कुबूल कर ली। तो दिल इतना बेचने क्यों है यार मन करता है सारे बंधन को तोड़ कर उस read more >>
वो पुराने दिन, वो सुहाने दिन जब टीवी घर आया, तो लोग किताबें पढ़ना भूल गए । जब कार दरवाजे पर आई, तो चलना भूल गए । हाथ में मोबाइल आते ही चिट् read more >>
"पापा" भगवान तो नहीं पर इस धरती पे भगवान का रूप हैं पापा अंतर्यामी तो नहीं पर अंतर्मन का सब पढ़ लेते हैं पापा पैसों का खजाना तो नहीं read more >>
Join Us: