new sahity live logo

साहित्य लाइव परिवार आपका हार्दिक स्वागत करता है!

दिशा-लाइव ग्रुप के सानिध्य में चलाया जा रहा साहित्य लाइव मंच हिंदी लेखको के सफल भविष्य के निर्माण में निरंतर कार्यरत है। साहित्य लाइव एक सामूहिक प्रयास है जिसका उद्देश्य विलुप्त हो रही हिंदी के प्रभुत्व को सभी के सहयोग से प्रचार व् प्रसार के द्वारा बनाये रखना है। उसी प्रक्रिया में इस मंच को तैयार किया गया है और नए व् उभरते रचनाकारों को एक ऐसा मंच प्रदान करने का प्रयास है जहां से वो प्रत्यक्ष रूप से जनता तक पहुँच सके और स्वप्रेरित होकर आगे बढ़ने का प्रोत्साहन मिल सके। इसके लिए आधुनिक तकनीको का प्रयोग कर बहुत सारी सेवाएं प्रदान की जा रही है, ताकि लेखक की कलम और पाठक के मन दोनों वर्गों का हिंदी के प्रति लगाव रहे। साहित्य लाइव की शुरुआत 26 जनवरी 2017 को www.sahity.com वेबसाइट के रूप में की गयी। जिसके संस्थापक मिस्टर आशीष घोडेला (हिसार, हरियाणा) है। जिन्होंने अपने साथियो के सहयोग से एक सराहनीय कदम उठाया। और आप सबको जानकार बहुत ख़ुशी होगी की अब साहित्य लाइव मात्र वेबसाइट तक सीमित नहीं है। समय व् जरूरत के अनुसार लेखको के हितो को ध्यान में रखते हुए इसमें नयी नयी सुविधाओं को जोड़ा जाता है। जैसे :-
  poet
  • साहित्य लाइव पत्रिका :- यह एक डिजिटल पाक्षिक पत्रिका है जिसके द्वारा आपकी रचनाये इंटरनेट और सोशल मीडिया के प्रयोग से देश के कोने कोने में पाठको तक पहुचती है। इस पत्रिका को पढ़ने और डाउनलोड करने के लिए यहाँ पर क्लिक करें!
  • प्रतियोगिताये :- लेखको, कवियों व् रचनाकारों को प्रोत्साहित करने के लिए साहित्य लाइव द्वारा समय समय पर विभिन्न प्रतियोगिताओ का आयोजन किया जाता है। प्रतियोगिता की जानकारी के लिए यहाँ पर क्लिक करें!
  • कवि सम्मेलन :- साहित्य लाइव द्वारा देश के अनेक स्थानों पर भव्य कवि सम्मेलनों का आयोजन किया जा रहा है। जिसमे साहित्य लाइव से जुड़े सदस्यों को शिखर तक पहुचने का सुनहरा अवसर मिल रहा है।
  • साहित्य लाइव चैनल :- रचनाकारों द्वारा भेजी गयी ऑडियो को विडियो में परिवर्तित कर के चैनल पर दिखाया जाता है। जिससे लेखकों का आत्मविश्वास बढ़ सके और एक उज्जवल भविष्य का निर्माण हो सके।
  • रविपथ पत्रिका :- हरियाणा की साप्ताहिक पत्रिका जिसमे उतम व् प्रेरणादायी लेखो को स्थान दिया जाता है जिससे लेखको की प्रतिभा निरंतर निखरती जाती है। ऐसी बहुत सारी पत्रिकाओं और अखबारों से साहित्य लाइव टीम संपर्क कर रही है, ताकि ज्यादा से ज्यादा हमारे लेखकों को फायदा हो सके।
  • साहित्य लाइव WhatsApp Group: रचनाकारों, पाठकों तथा संचालक गण के बीच की दूरी कम करने के लिए, हमने व्हाट्सप्प ग्रुप बनाया है। साहित्य लाइव परिवार से व्हाट्सप्प पर जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें!
  • लेख प्रकाशन: साहित्य लाइव नए उभरते रचनाकारों को कला का प्रदर्शन और कला विकशित करने में बहुत सहयोग कर रहा है। अगर आप भी अपने लेखों (कविता, कहानी, शायरी, ग़ज़ल, आलेख, गीत या अन्य विचार) को प्रकाशित करना चाहते हैं, तो यहाँ पर क्लिक करें!

साहित्य लाइव अब मात्र प्रकाशन तक सीमित नहीं है, बल्कि यह एक अद्भुत मंच है जहाँ पर माँ सरस्वती के आशीर्वाद से कलम प्रेमियों का विकास किया जाता है।

कविताएँ

मनोरंजन

बाल साहित्य

कहानियाँ

प्रेरणा स्रोत

धार्मिक

Testimonials & Reviews

Nishant Kumar

Nishant Kumar Nayan

Hey #guys it’s great experience with #dishalive i’m new on it , but kindly consider me as a friend and it’s a great platform to show our own passion with our colleague so u all #dishalive guys are amazing and keep it up.

Nishant Kumar
Sahity Live

साहित्य लाइव एक पुल

साहित्य लाइव पुल की तरह कार्य कर रहा है पाठको और कवियो के बीच बहुत बहुत धन्यवाद

विक्रम कोरंगा
उत्तराखण्ड (बागेश्वर)

I likeSahity

Sahiyt Is one of the good platform for new writter like poem gajal sayari

Avadhesh Kumar
Jaunpur UP

है अगर जुनून – जे.बी.श्रीवास्तव

है अगर जुनून तो कांटे भी नहीं रोक सकते राह किस्मत को भी झुकना पड़ेगा क़दमों
तहे दिल से शुक्रिया साहित्य डॉट कॉम को जिसने एक ऐसा मंच खड़ा किया

जे.बी.श्रीवास्तव
जौनपुर उत्तर प्रदेश

Knowledge of Arts

Sahitya.com is just like me to express my word to entire people who love to read

Shafiya Begum
Vizag, Andhrapradesh

उड़ने को मिला खुला आसमान

कुछ साल पहले अपने अंदर उमड़ रही भावनाओं को प्रकट करने के लिए कलम उठाई थी।समय गुजरता गया और यह मेरी दोस्त बन गई।धीरे धीरेलेखन के प्रति लगाव बढता गया और यह मेरा जुनून बन गया।अब समय आ गया था इस जुनून कोदुनिया तक पहुंचाने का,मुझे तलाश थी एक ऐसे माध्यम की ,जो मेरे इस सफर को मंजिल से मिलाए। कहते है जब किसी चीज की दिल से तलाश की जाए , तो पूरी कायनात हमे उससे मिलाने में जुट जाती है इसी कारण मुझे भी मिल गया साहित्य लाइव का साथ और कह पा रही हूँ। आप सबसे मन की बात 😃 धन्यवाद साहित्य लाइव

शोभा (सृष्टि)
राजस्थान

मन की बात

बचपन से एक चाह थी लिखने की आज कोशिश कर रहा हूँ मन की बात कलम से कागज पर उतारने की और ये सब मुमकिन हुआ है साहित्य लाइव की वजह से। धन्यवाद साहित्य लाइव परिवार!

Mashesh Negi
Pauri Garhwal, Uttrakhand

मैं एक खास सोच का

मैं एक खास सोच का आम इंसान हु और मुझे लिखना पसंद है और साहित्य लाइव ने मुझे सुप्पोर्टिड किया !

Gokalaram
Meethisar bola barmer

हिन्दी साहित्य की जड़ें

Navin Kumar

हिन्दी साहित्य की जड़ें मध्ययुगीन भारत की ब्रजभाषा, अवधी, मैथिली और मारवाड़ी जैसी भाषाओं के साहित्य में पाई जाती हैं। हिंदी में गद्य का विकास बहुत बाद में हुआ और इसने अपनी शुरुआत कविता के माध्यम से जो कि ज्यादातर लोकभाषा के साथ प्रयोग कर विकसित की गई। हिंदी में तीन प्रकार का साहित्य मिलता है। गद्य पद्य और चम्पू। sahity.com Website के माध्यम से सभी लेखको के रचनाओ को पाठको तक पहुंचाने का जो काम करता है, निश्चित ही सराहनिए है. आपको बहुत बहुत धन्यवाद!

Navin Kumar
Screen Writer

रंगों की कहकशां

दिल की कलम से इस पे उतरेंगे कुछ नया
जिसकी हमें तलाश थी वो मंच मिलगया
देखा जो पहेली बार लगा हमको ये फरहा
शबनम का कोई कतरा मेरे दिल पे गिर गया ❤
मेरा पहला गीत जो आपने साहित्य लाइव की
जीनत बनायीं है हमें बहुत खुशी हुई
धनवाद और भी लिखूंगी और भेजूंगी
साहित्य लाइव दिन रात कामियाबी की मंज़िल चढ़ता
रहे दिन दूनी रात चौगनी तरक्की कर्रे

फरहाना गौहर
Nasik, Maharashtra

Sarahniya Kadam

Abhi main dekhi hoon achhi aur sargarvit rachnayen hain is website pr.

Anjana Jha
house no 1303 sec 55 Faridabad

I like writing poems and highlight to crime.

My AIM becomes a writer and I want to do best for my country, and when I join Sahity Live feel so lucky. I think that I will introduce you to my good introduction.
Thanking you Sahity Live Team.

Pooja Pandey
Lalkuan Nainital Uttrakhand

आपका काम सराहनीय है

आपका काम सराहनीय है आप ने जो सोचा है वो वास्तव में सबकी भलाई की सोच है। आपका काम एक दिन ऐसी रंगत लाएगा की शायद आपको भी विस्वास नही होगा। आप अपने काम को सुचारू रूप से जारी रखिये…

कमल नयन मिश्रा
Rewa Madhya Pradesh

Sahity se aap Sahityakar ban jaynge

Really its a good site to write your poems our story, thankoo sahity.com and DishaLive for this platform

AVINASH SINGH
Gorakhpur, UP

हिंदी साहित्य

हिंदी साहित्य से जुड़कर मुझे बहुत खुशी है
अपने भाव को परकट कर सकते है अपने विचार को रख सकते है

sanat Baghel
Raipur cg

Sahity live एक परिवार

Sahity live के साथ जुड़ने पर मुझे लगा कि मैं किसी साहित्य परिवार का एक हिस्स हूँ, जहाँ अनजाने भी अपनों की तरह लगते हैं । अब मन में किसी कृतियों के आगमन पर मैं Sahity live का साथ पाता हूँ, जहाँ मेरे कृति/विचार को प्यार और सम्मन मिलता है।
सचमुच Sahity live का साथ एक अद्भुत अहसास है। हम जैसे कई लेखकों को इंटरनेट पर एक परिवार के रूप में ढ़ालने के लिए धन्यवाद !

प्रणय कुमार
कुर्सेला, कटिहार ( बिहार )

अपना विचार

ये बहुत ही अच्छा तरीका है अपने विचारों को लोगों के सामने रखने का।

शिवम् कुमार
जमुई, बिहार

नौबहार साहित्य लाइव

दिल की कलम से इस पे उतारेंगे कुछ नया
जिस की हमें तलाश थी वो मंच मिल गया
देखा जो पहेली बार लगा मुझ को ये फरहा
शबनम का कोई कतरा मेरे दिल पे गिर गया
मेरा लिखा गीत साहित्य लाइव पर देख बहुत ख़ुशी हुई

अभी कुछ नया हाज़िर है आपको पसंद आये तो
ज़रूर बताएं ये मंच दिन दूनी रात चौगनी तरक्की करे यही उम्मीद है

धनयवाद साहित्य लाइव परिवार

Farhana Gauhar
Nasik, Maharastra

बेजान को मिली जान

क्या कीमत होती है साबन की
वो तो पतझड़ में पता चलती है।

तन्हाई क्या होती है
वो तो प्रेम को खोकर
पता चलती है ।

जब सब अपने सिर्फ साथ देते हैं सपनों में
तब मेरे प्यारे दोस्तों मिझे तो सिर्फ साहित्य परिवार की याद आती है।।

सभी साहित्य परिबार मित्रो को मेरी तरफ से प्यार भरा नमस्कार

अभी राजा
फर्रुखाबाद, उत्तर प्रदेश

This site is wonderful, superb,

This site is wonderful, superb, Maine ispe kai story publish ki, aur WO bhut jald publish hui. Isoe hum har tarah ki story padh ya likh sakte hai. Thank you, very much for providing these things.

Saurabh Kaithwas
Naini, Allahabad.

नेहा श्रीवास्तव

Neha srivastava

मेरे शब्दों को भी रहने का मकान मिल गया।
नाम था गुमनाम पहचान मिल गया।
कवियों और लेखकों का परिवार मिल गया।
अपने भावनाओं को कोरे कागज पर शब्दों का रुप देती थी।
कुछ इस तरह साहित्य लाइव का साथ मिल गया।।

नेहा श्रीवास्तव

Sahity live एक बहुत ही अच्छा platform है।

Sahity live एक बहुत ही अच्छा platform है। युवा लेखकों और रचनाकारों को एक नया platform मिला है। इस platform से नये चेहरे सामने उभर कर आ रहें हैं आगे भी आते रहेंगे और मुझे इससे जुड़कर बहुत खुशी है। मुझे एक साहित्य परिवार मिला है। Sahity live family से जुड़कर मुझे लगता है कि मेरा सपना जल्द ही पूरा होगा और मुझे बेबकूफ कहने वालों को मैं दिखा सकूंगी कि मैं बेबकूफ न थी और न हूं। मुझे एक ऐसा परिवार मिला है, जिससे जुड़कर मैं सबसे कह सकती हूं कि मुझमें भी हौसला है और मैं भी कुछ कर सकती हूं। उन माता पिता से अनुरोध है जिनकी बेटी या बेटे की साहित्य में रूची है तो इसी तहर उनका साथ देते रहें और मुझे Sahity live का सदस्य बनाने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!

अनुश्री दुबे
इटावा (उत्तर प्रदेश)

Thanks Sahity Live

मुझे बहुत खुशी है Sahity Live से जुड़ कर, हम अपने मन की आवाज को लिख कर लोगों तक पहुचा सकते है। ये बहुत ही अच्छा platform है।

Krishna
Haryana

एक नई दिशा है साहित्य लाइव

साहित्य लाइव एक अभूत पहल है जो हम लिखने वालो को एक नई दिशा देते है।
धन्यवाद Sahity.com

Shafiya Begum
VIZAG,Andhrapradesh

मन की बात

साहित्य लाइव एक ऐसा माध्यम है, जहाँ व्यक्ति अपने मन की बात को लेखन के माध्यम से दुसरो तक पहुचाने मे मदद करता है। इससे जुड़कर मुझे बहुत अच्छा लग रहा है, इसके सभी टीम को आभार प्रकट करता हुँ ।

पुष्कर कुमार
अररिया बिहार

अपनी सोच

सबसे पहले तो हम साहित्य लाइव को बहुत बहुत धन्यवाद कहना चाहेंगे
जिसका दरवाजा हमारे लिए हमेशा खुला हुआ है जहाँ की हम अपने विचारो अपनी कविताओ को रखते है और ये हमारी कविताओ और विचारो को लोगो तक पहुँचाता है इससे हमें बहुत खुशी मिलती है और हमें आगे और लिखने का साहस और प्रेरणा मिलता है।
एक जो तुम मिले तो हमें मन्जिल मिल गयी
गर तुम न होते तो न जाने रास्ता भी कहाँ ले जाती

Aradhana singh
Surat Gujarat

Awesome

In one word it’s just awesome… A great platform for everyone… I just love it…

AVIJIT OJHA
Gopiballavpur, Jhargram (West Bengal)

विकास विद्यार्थी

जब कोई सामाजिक मस्तिष्क,अपने पोषण के लिए,भाव सामाग्री निकालकर समाज को सौंपती है तो उस संचित निधि कोष को ही साहित्य कहा जाता है । साहित्य की कई शाखाएँ हैं जैसे:- कविता,नाटक,कहानी, हाइकू,और जीवन ।

मुझे जीवन की इस विधा में जुड़े रहना, जैसे खुद से जुड़ा हूँ, जमीन से जुड़ा हूँ ऐसा ही लगता है । आपके और आपके टीम और उन सभी लोगों का धन्यवाद जिन्होंने इस इलेक्ट्रॉनिक समूह को योगदान किया। आभार आप सभी का ।

विकास विद्यार्थी
भोपाल मध्य, प्रदेश

साहित्य से संसार तक

धन्यवाद Sahity.com,
मैं बहुत खुश हूँ कि मेरे लिए साहित्य परिवार में जुड़ने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। वो भी उस परिवार में जो न केवल मार्गदर्शक है बल्कि एक ऐसा प्लेटफार्म भी है जहाँ से मुझे और मेरे अन्य हिंदी साहित्य परिवार से जुड़े साथियों को अपनी प्रतिभा को संसार में पूर्ण विकसित करने का मौका दिया जा रहा है। मैं आशा करता हूँ कि यदि हमारा sahity.com परिवार ऐसे ही बढ़ता गया तो हम बहुत जल्द दुनियां और देश भर में अपने साहित्य परिवार के साथ एक नयी पहचान बना कर खड़े होंगे वो दिन दूर नहीं।
सबसे अच्छी बात तो यह है कि यहाँ सभी सदस्यों को समान दृष्टि से देखा जाता है। इस परिवार के संचालक महोदय आशीष सर और रवि सर दोनों ही अपनी महानता का परिचय अपने कौशल व्यवहार और विनम्रता से देते हैं। जो हम प्रत्येक के लिए एक साहसिक वरदान का काम करता है।
धन्यवाद साहित्य डाॅट काम।।

जीतपाल सिंह यादव (आर्यवर्त)
बंजरपुरी पवासा सम्भल (उत्तर प्रदेश)

साहित्य का मुकाम

साहित्य का मुकाम हासिल धीरे-धीरे होगा
आप सज्जनों का साथ मिला है मुझे
यकीन है मुझे
विश्वास धीरे-धीरे होगा
साहित्य के सितारों से सजी है ये जमी
आसमान भी उतरेगा इस धरती पर
चंदा भी लोरिया गायेगा
मगर पूरा ये ख्वाब धीरे-धीरे होगा

Manoj Kumar
VPO PAOTA TEHSIL KOTPUTLI DISTRICT JAIPUR RAJASTHAN 303106

शुक्रिया टीम साहित्य लाइव

सबसे पहले तो टीम साहित्य लाइव को शुक्रिया ओर राम राम
सभी साहित्य लाइव के वक्ताओं को सादर प्रणाम, श्रोता ओर पाठक भाई बहनों को मेरा यानी दीप जांगड़ा का प्रणाम
मैं सिर्फ यही कहना चाहूंगा कि मेरी रचनाएं सामाजिक स्थितियों पर आधारित रहती हैं आप कृपया पोस्ट करते रहना मैं कोई लेखक नही बस अपने खाली समय को शब्द रूपी समुन्दर में उतरकर प्रयोग करता हूँ, मैने हास्य व्यंग्य सामाजिक और काल्पनिक सभी रंगों पर कविताएं लिखी हैं और लिखता भी रहता हूँ
आप इसी तरह से मेरे विचारों को जांच परख कर प्रकाशित करते रहिए
आपका आभार करता रहूंगा
धन्यवाद
राम राम जी

दीप जांगड़ा
कैथल

एक जो तुम मिले तो

एक जो तुम मिले तो हमें मन्जिल मिल गयी
गर तुम न होते तो न जाने रास्ते भी कहाँ ले जाते

Thank You Sahity Live Team

Aradhana singh
Pal Jakat naka smc quarters nr Rajhans cinema adajan surat gujarat
साहित्य और कला से जुड़ी कृति और लेखों को प्रकाशित करने के लिए publish@sahity.com पर फोटो और परिचय के साथ ईमेल करें। Read more >>

0

Create Account



Log In Your Account