Join Us:
20 मई स्पेशल -इंटरनेट पर कविता कहानी और लेख लिखकर पैसे कमाएं - आपके लिए सबसे बढ़िया मौका साहित्य लाइव की वेबसाइट हुई और अधिक बेहतरीन और एडवांस साहित्य लाइव पर किसी भी तकनीकी सहयोग या अन्य समस्याओं के लिए सम्पर्क करें
यु मत खोलो जो दिल में छुपा है उस राज को; पुरानी किताब में ही दफ़न रहने दो उस गुलाब को। में भूल चुका हूँ एक छत के नीचे बिताई उस रात को अब तुम read more >>
गम के दरिये में डूबी है दुनिया तुम ख़ुशी की एक लहर ढूढते क्यों नही। मरने की तो लाख बजह होती है तुम जीने की एक बजह ढूढो तो सही.....। ✍️@babajidikoli read more >>
काश दिल की हर अनकही बातों को कोई समझने वाला होता कुछ और न सही हर तन्हाई में साथ निभाने वाला होता। read more >>
ऐ गुलाब तू क्यों अब इन पन्नों में डरा सहमा छुपा हुआ है, वो भी एक जमाना था जब तू मेरी प्रेरणा हुआ करता था।। ✍️प्रदीप सिंह ग्वल्या read more >>
जिंदगी जीने की मेरी ख्वाहिश थी, अपने छोड़कर गैरों पर चाहत थी| गैरों के चक्कर में अपनों को भूला बैठे, जब अपनों ने दिया सहारा तब गैर रूला read more >>
अक्सर वह यह कहा करते हैं, के उनको इक पल की भी फुर्सत नहीं पर जाने क्यों हमें यह लगता है के हमसे उनको कोई मतलब ही नहीं। read more >>
मेहमान वनके आए थे कभी अब याद वनके ही रह गये हो, मिलों दूर के ओ रहने वाले तुम अब ख्वाब वनके ही रह गये हो। read more >>
एक काम कर के जाना जी, जग में जीत के जाना जी, ख़ुद में ख़ुदा को जान के जाना जी ख़ुद को जान के जाना जी....!!!! -मोती read more >>
भाई देख- चंद्रमा तक पहुंच हो गई, भाई पर देख- हृदय तक पहुंच ना हुई, भाई हृदय में- रूहानियत की गांठ खुलती है, भाई राज- जीवन का है गुरु ज् read more >>
तलाश मेंने किया नहीं, वह गुमनाम था हीं नहीं, हरेक सांस में आता-जाता था मैं खुद-ब-खुद से जुदा था।। -मोती read more >>
मन-मगन रहता है खोया-खोया, राही-ए-हम हैं प्रेम में खोए-खोए ढूंढे-ए-मन तू है कहां चंचल चकोरी ढूंढे-ए-मन तू है कहां-कहां री।। -मोती read more >>
Join Us: