Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

गांधी जयंती पर लिखी कविता-कवि दुर्वेश सिंह

‌भाइयों है गुजरात राज्य में ,नगर पोरबंदर सुंदर l
जन्मे मोहनदास बहा थे,दिन था वह 2 अक्टूबर ll
हुई सुदेश की शिक्षा पूरी ,फिर मोहन थे गए विदेशl बैरिस्टर बनकर गांधीजी ,लौटे वापस देश ll
देखें यहां गुलामी के दिन, मचा हुआ था हाहाकार l
धन वैभव का जीवन त्यागा ,गांधी बने देश आधारll सत्याग्रह आंदोलन छेड़ा ,टकराई गोरी सरकार l गांधी के हाथों में थे बस ,सत्य अहिंसा दो हत्यार ll किया साइमन का विरोध फिर, तोड़ा नमक कानून आंदोलन भी l
चल पड़ा उनके पीछे जाकर ,भारत का जन जन जीवन भी ll
टूट गई फिर शक्ति विदेशी , भारत छोड़ गए अंग्रेजl
आजादी आने वाली थी ,खुश था सारा देश ll
किंतु उसी समय उस संध्या सभा में ,उठी खून की आंधी l
30 जनवरी 48 को ,स्वर्ग सिधारे गांधी ll
गांधी के सीने पर थी तब ,नाथू ने दागी गोली l हाहाकार मचा भारत में ,भारत की जनता रोलीll
जन जन के थे प्यारे बापू ,करते थे वे सबको प्यार l
इसीलिए बाबू कहलाए ,पिता समान सभी को प्यारll
Durvesh singh दुर्वेश सिहं

247 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Kavi-Durvesh-singh

Kavi-Durvesh-singh

I was born in 1996 . I am a Author , poet, Teacher.

Leave a Reply

पर्यावरण-पुनः प्रयास करें

पर्यावरण पर्यावरण हम सबको दो आवरण हम सब संकट में हैं हम सबकी जान बचाओ अच्छी दो वातावरण पर्यावरण पर्यावरण हे मानव हे मानव पर्यावरण

Read More »

Join Us on WhatsApp