मां की ममता भरी आशा पुत्र से – विशाल कुमार

मां की ममता भरी आशा पुत्र से – विशाल कुमार

माता हूं मैं तुम्हारी
तुम हो मेरे दुलारे

रागिनी मैं हूं
तुम राग हो हमारे

तुम देश के भविष्य हो
तुम अनुराग हो हमारे

हमेशा आगे की ओर चलना
आगे भविष्य है तुम्हारा
तुम हो आसमान के चमकते हुए सितारे
तुमसे है मेरी दुनिया तुम हो मेरे सहारे
तुम हो एक ज्योति करना जग उजाला
मैं एक पेड़ हूं बड़ी सी तुम उसके मीठे फल हो
आशा है यह हमारी तुम सुगंध बनके महको
खुशियों की लालिमा में
चिड़ियों के जैसे चहको

 

विशाल कुमार

मोकामा, पटना

1+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account