Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

Dussehra-चंद्रशेखर-

यदि भारत को त्योंहारों का देश कहा जाए तो या गलत नहीं होगा । क्योंकि इस भारत देश में अनेक धर्मों एवं जातियों के लोग निवास करते हैं जैसे हिंदू मुस्लिम, सिख, ईसाई ,बौद्ध आदि और उन सबों का अपना अलग-अलग त्यौंहार होता है जैसे दशहारा, ईद, क्रिसमस, रक्षाबंधन बौद्ध जयंती आदि। लेकिन इनमें से दशहारा एक हिंदूओं का एक सप्रमुख त्योंहार है। यह पर्व कार्तिक मास में मनाया जाता है । यह पर्व पुरे नौं दिन तक मनाया जाता है लेकिन सातवें दिन से इस पर्व को बड़ी धूमधाम और हर्सोल्लास के साथ मनाया जाता है । इस पर्व को मनाने के पीछे एक प्राचीन कथा जुड़ी है कि एक दुष्ट दानव महसासूर जो अपने आतंक से तीनों लोकों को परेशान कर रहा था । तब सभी देवता मां पार्वती के पास गया और उनको सारी बातें बताया और तब मां दुर्गा का अवतार हुआ । और मां दुर्गा और महिषासुर के बीच पूरे नौं दिन तक युद्ध चला और अंतिम नौवें दिन महिषासुर का अंत कर दिया । और हम प्रत्येक वर्ष इस पर्व को बड़ी धूमधाम से मनाते आ रहे हैं । इस पर्व में श्रद्धालु पूरे भक्तिमय के रस में डूब जाते हैं इस पर्व में कहीं कहीं जगहों पर प्रतिमा भी स्थापित किया जाता है लोग इस पर्व में नए नए कपड़े पहनते हैं। घर में कई तरह के पकवान भी बनाया जाते हैं । कई स्थानों में मेला भी लगता है और अंतिम दसवीं दिन इस प्रतिमा को विसर्जित किया जाता है। यह पर्व अधर्म पर धर्म , बुराई पर अच्छाई का प्रतीक है इसलिए हमें इस पर्व को बड़े ही धूमधाम और भाईचारा के साथ मनाना चाहिए।
(चंद्रशेखर)

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp