Join Us:
20 मई स्पेशल -इंटरनेट पर कविता कहानी और लेख लिखकर पैसे कमाएं - आपके लिए सबसे बढ़िया मौका साहित्य लाइव की वेबसाइट हुई और अधिक बेहतरीन और एडवांस साहित्य लाइव पर किसी भी तकनीकी सहयोग या अन्य समस्याओं के लिए सम्पर्क करें

ओ माई मेरी-सुःख हो या दुःख सब तुझपे है छोडा

Kalindri pal 08 Dec 2023 शायरी धार्मिक ओ माई मेरी 6902 0 Hindi :: हिंदी

सुःख हो या दुःख सब तुझपे है छोडा 
दुनिया को छोड़ के नाता है तुमसे जोड़ा,
ओ माई मेरी छोड ना देना मुझे बिच राह में जीवन के हर इक पल को तेरे भरोसे छोड़ा।

Comments & Reviews

Post a comment

Login to post a comment!

Related Articles

मेरे नजर के सामने तुम्हारे जैसे बहुत है यहीं एक तू ही हो , मोहब्बत करने के लिए यह जरूरी तो नहीं read more >>
मीठी-मीठी यादों को दिल मैं बसा लेना जब आऐ हमारी याद रोना मत हँस कर हमें अपने सपनों मैं बुला लेना read more >>
Join Us: