Join Us:
20 मई स्पेशल -इंटरनेट पर कविता कहानी और लेख लिखकर पैसे कमाएं - आपके लिए सबसे बढ़िया मौका साहित्य लाइव की वेबसाइट हुई और अधिक बेहतरीन और एडवांस साहित्य लाइव पर किसी भी तकनीकी सहयोग या अन्य समस्याओं के लिए सम्पर्क करें

पैसे की मोहब्बत- बेमाईंने बन गई

Asim 07 Dec 2023 शायरी दुःखद immotion 6674 0 Hindi :: हिंदी

हैरत-फरोश हूँ में इस दौर-ए-जहालत में
जहाँ बिन पैसे की मोहब्बत बेमाईंने बन गई,
और बिन पैसे की हमदर्दि कबाड़ बन गई।

हैरत-फरोश हूँ में इस दौर-ए-जहालत में 
जहाँ बिन पैसे की इज़्ज़त अधूरी बन गई,
और फर्ज़, हुकूक और चाहत से ज़्यादा, 
पैसे की चाह असल राह बन गई।

हैरत-फरोश हूँ में इस दौर-ए-जहालत में 
जहाँ आज़गी ने भी अब पैसो तले दम तोड़ा, 
और बिन पैसो की भलाई, 
एक बिन-दिखाई आह बन गई।

Comments & Reviews

Post a comment

Login to post a comment!

Related Articles

मेरे नजर के सामने तुम्हारे जैसे बहुत है यहीं एक तू ही हो , मोहब्बत करने के लिए यह जरूरी तो नहीं read more >>
मीठी-मीठी यादों को दिल मैं बसा लेना जब आऐ हमारी याद रोना मत हँस कर हमें अपने सपनों मैं बुला लेना read more >>
Join Us: