Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

लेखन की चुनौतीः भाग-5 ‘ये-ए’ और ‘यी-ई’ का चक्कर-वीरेंद्र देवांगना

लेखन की चुनौतीः भाग-5
‘ये-ए’ और ‘यी-ई’ का चक्कर::
हिंदी भाषा में अज्ञानता के कारण ‘ये-ए’ और ‘यी-ई’ दो तरह-तरह की वर्तनियां लिखी जा रही हैं। कोई लेखक आये-आए, खाये-खाए, गये-गए, दिये-दिए लिखता है, तो कोई नये-नए, चाहिये-चाहिए, कहिये-कहिए, समझिये-समझिए। ऐसा ही जायेगा, जावेगा और जाएगा; जायें, जावें और जाएं का तीन रूप चलन में है। यही हाल, गयी-गई, नयी-नई लिखने में दिख पड़ता है।
स्तरीय समाचारपत्रों व पत्रिकाओं में हमें ‘ए’ और ‘ई’ रूप देखने को मिलता है, जो सही प्रतीत होता है और व्याकरण-सम्मत लगता है। केंद्रीय हिंदी निदेशालय ने भी ‘ए’ और ‘ई’ वाले रूपों को लिखने की अनुशंसा की है।
सुप्रसिद्ध भाषाविद् डा. भोलानाथ तिवारी, आचार्य पं. पृथ्वीनाथ पाण्डेय और अन्य अनेक भाषाविज्ञानियों का अभिमत है कि मूल धातु ‘या’ न होकर ‘आ’ है, जो उच्चारणिक सुख के चलते ‘या’ हो गया है। ‘आ’ का बहुवचन रूप ‘ए’ होता है। इसलिए गया, खाया, पीया, दिया एकवचन की दृष्टि से तो सही होगा, लेकिन इसका बहुवचन रुप गए, खाए, पीए, दिए होगा, न कि गये, खाये, पीये और दिये रूप।
इसी तरह ‘आ’ का स्त्रीलिंगी रूप ‘ई’ है, न कि ‘यी’। इसीलिए गया का स्त्रीलिंग रूप बनाने में ‘ई’ का प्रयोग किया जाकर ‘गई’ लिखा जाएगा। यही स्थिति खाई, खिलाई, दिलाई, सुलाई, सिलाई आदि रूप में भी परिलक्षित होगी।
गौरतलब यह भी कि ‘ए’ और ‘ई’ रूप का व्याकरणिक नियम संज्ञा, विशेषण, क्रिया, क्रियाविशेषण और अव्यय आदि सभी शब्द रूपों में लागू होता है।
लेकिन, यहां इसके अपवाद भी हैं। इसका भी ध्यान रखा जाना चाहिए। जो शब्द मूलरूप से ‘य’ अंत वाले हैं, उनका मूलरूप ही रहेगा। उसमें परिवर्तन नहीं किया जाता। जैसे-परायी, स्थायी, न्यायी, आततायी, उत्तरदायी, फलदायी, विषयी, सुखदायी, दुःखदायी, रहस्यमयी, ममतामयी आदि।
–00–

38 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Virender Dewangana

Virender Dewangana

मैं शासकीय सेवा से सेवानिवृत्त हूँ। लेखन में रुचि के कारण मै सेवानिवृत्ति के उपरांत लेखकीय-कर्म में संलग्न हूँ। मेरी दर्जन भर से अधिक किताबें अमेजन किंडल मेंं प्रकाशित हो चुकी है। इसके अलावा समाचार पत्र-पत्रिकाओं में मेरी रचनाएं निरंतर प्रकाशित होती रहती है। मेरी अनेक किताबें अन्य प्रकाशन संस्थाओं में प्रकाशनार्थ विचाराधीन है। इनके अतिरिक्त मैं प्रतियोगिता परीक्षा-संबंधी लेखन भी करता हूँ।

Leave a Reply

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र-वीरेंद्र देवांगना

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र:: ब्रिटिश सरकार के आधिपत्य से स्वतंत्र होने के बाद संप्रभु और लोकतांत्रिक गणराज्य भारत के लिए

Read More »

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य-वीरेंद्र देवांगना

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य:: 26 नवंबर 2008 को मुंबई के ताज होटल में हुए आतंकी हमले में वहां की चीजें सभी

Read More »

Join Us on WhatsApp