अनोखा रिश्ता-स्वाती सिंह

अनोखा रिश्ता-स्वाती सिंह

कलम का अनोखा रिश्ता है दिल से,
जज़्बात और अरमान जब उमड़ आते है मन में,
हर बात उभर आती है पन्नों पर,
कलम का अनोखा रिश्ता है दिल से.

सवालों-जवाबों में उलझ गई जिंदगी,
अनजाने पहलूओं में बदल गई जिंदगी,
उतार-चढ़ाव में इस मंजिल पर आ गई है जिंदगी,
विचारों के सागर में जब मन गोतें लगाने लगते हैं,
कईं बाते उभर आती है पन्नों पर.

कलम का अनोखा रिश्ता है दिल से,
कुछ बातें,कुछ हालातें,कुछ जज़्बात
छूट न जाए हाथों से ,
सब कुछ कैद कर लेना चाहती है पन्नों पर,
कलम का अनोखा रिश्ता है दिल से.

 

                Swati Singh स्वाति सिंह

             वाराणसी,उत्तर, प्रदेश

2+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account