मेरा मन….,☺ (चेतन वर्मा)

मेरा मन….,☺ (चेतन वर्मा)

धरती तेरी ,आसमा तेरा
घर तेरा, गली तेरी
अब मेरा मन भी
मेरा ना रहा…
सुबह तेरी, शाम तेरी
चांद तेरा, चांदनी तेरी
अब मेरा मन भी
मेरा ना रहा…
फिजा तेरी, रंगीन अदा तेरी
जुल्फें तेरी,नयन मटकिले तेरे
अब मेरा मन भी
मेरा नाम रहा…
नशीला दिल तेरा ,
गाल पर तिल तेरा
होंठ गुलाबी तेरे,
जवानी बलखाती तेरी
अब मेरा मन भी
मेरा ना रहा..

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Chetan Vermaचेतन वर्मा
बुन्दी राजस्थान

मेरा मन….,☺ (चेतन वर्मा)
Rate this post

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account