Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

मेरी आराधना-राम अवतार

हुआ मेरा सौभाग्य उदय ,
पूर्ण हो गयी मेरी उपासना ।
ना जाने मन मे था कबसे,
जीवन की ये दिव्य कामना ।
मंगलमय हो गया आज मैं,
खुशियों से जो हुआ सामना।
जीत गया देखो किस्मत से ,
सफल हो गयी मेरी आराधना।

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

अहो देव ये कौन खड़ा है ,
मग में दोनों कर पसारकर ।
हुआ देख मैं जिसे स्तम्भित,
ठिठक गया पग मेरा पलभर।
किन्तु जुटा साहस मैं बोला ,
मैं हूं साधक कोई आम ना ।
जीत गया देखो किस्मत से ,
सफल हो गयी मेरी आराधना ।

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

भीड़ों में रहकर भी मैंने ,
सदा अकेले पाया खुद को ।
शुभचिंतक थे पास में मेरे ,
चिंता फिर भी सताया मुझको ।
अपने पराये भला बुरा इस ,
दौर में मैंने सबको जाना ।
जीत गया देखो किस्मत से ,
सफल हो गयी मेरी आराधना ।

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

जीवन की इस कृपण धार में ,
यूँ ही बहता गया निरन्तर ।
बीत गए दिन बदला मौसम
किन्तु मुझमे न आया अंतर ।
संकल्पित हो खुद को सम्हाला,
फिर कभी ये हिय हुआ हताश ना ।
जीत गया देखो किस्मत से ,
सफल हो गयी मेरी आराधना ।

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

व्यथित हुआ मन मेरा जग में ,
हृदयविदारक दृश्य देखकर ।
लगा बाण सुखरथ जीवन को
मानो अन्तहृदय को भेदकर ।
क्षतविक्षित तब हुए पथिक सब
फिर भी मैंने ना छोड़ी साधना ।
जीत गया देखो किस्मत से ,
सफल हो गयी मेरी आराधना ।

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

कलि के कुटिल प्रहारों को मैं,
झेल गया जिस नाम के बल पर।
जितना मुझे उम्मीद नही था ,
वो सब पाया श्री राम के बल पर
बीत गए वो लम्हे दुख के ,
अब अतीत मुझे रहा याद ना ।
जीत गया देखो किस्मत से,
सफल हो गयी मेरी आराधना।

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

जिनको सब कुछ मान थे बैठे,
वही हमारा रिपु बन बैठा।
वाह रे स्वार्थी दुनिया तुमने,
अपनो को ही मात दे बैठा ।
कर ली मैंने राम जी से प्रेम,
दुनियां से अब मुझे मियाद ना।
जीत गया देखो किस्मत से ,
सफल हो गयी मेरी आराधना।

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

मोह की ये घनघोर घटायें,
लगता जैसे यही सत्य हो ।
दशो इंद्री में व्याप्त हुआ ज्यो,
अनन्त से केवल यही रहस्य हो।
अंतर्मन की ऊसर भूमि पर,
बरषी मानो ज्ञान की घना।
जीत गया देखो किस्मत से ,
सफल हो गयी मेरी आराधना ।

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp