Join Us:
20 मई स्पेशल -इंटरनेट पर कविता कहानी और लेख लिखकर पैसे कमाएं - आपके लिए सबसे बढ़िया मौका साहित्य लाइव की वेबसाइट हुई और अधिक बेहतरीन और एडवांस साहित्य लाइव पर किसी भी तकनीकी सहयोग या अन्य समस्याओं के लिए सम्पर्क करें

इच्छा _शक्ति

संदीप कुमार सिंह 30 Mar 2023 कविताएँ समाजिक लोगों के लिए प्रेरणा से भरपूर मेरी कविता जिसका शीर्षक ऊपर दिया हुआ है। 104261 6 4.6666666666667 Hindi :: हिंदी

इच्छा शक्ति
🥀🥀

शक्ति जब मिले इच्छाओं की,
जो चाहें सो हांसिल कर कर लें।
आवश्यकताएं अनन्त को भी,
एक हद तक प्राप्त कर लें।
शक्ति जब मिले इच्छाओं की,
आसमान पर भी अपनी दुनिया बसा लें।
जीवन की इस डगर में,
बाधाएं बहुत सारी हैं।
पर मेरे दोस्तों घबराना नहीं है,
इच्छा रूपी अपने इस खजाने पर,
सदैव हमें विश्वास रखना है।
मुझे ये करना है_मुझे वो करना है,
करना है तो करना है।
असम्भव को भी सम्भव करना है,
जीवन एक जंग है,
जीवन जंग में मुझे जीतना है।
तर्क और वितर्क, युक्ति और सूक्ति,
विज्ञानिक इस काल में,
नई_नई अविष्कार करना है।
सारे अपने सपनों को,
सकार करना है।
शक्ति जब मिले इच्छाओं की,
जो चाहें सो हांसिल कर लें।
                       चिंटू भैया
                         🥀🥀
                       

Comments & Reviews

ROHIT YADAV
ROHIT YADAV Best

1 year ago

LikeReply

Sahity Live
Sahity Live

1 year ago

LikeReply

Sahity Live
Sahity Live Nice

1 year ago

LikeReply

Shveta kaithwas
Shveta kaithwas Behad khubsurat

1 year ago

LikeReply

संदीप कुमार सिंह
संदीप कुमार सिंह अति सुन्दर, अति सुन्दर। अति सुन्दर, अति सुन्दर। अति सुन्दर, अति सुन्दर। अति सुन्दर, अति सुन्दर। अति सुन्दर, अति सुन्दर।

8 months ago

LikeReply

संदीप कुमार सिंह
संदीप कुमार सिंह अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर अति सुन्दर

8 months ago

LikeReply

Post a comment

Login to post a comment!

Related Articles

शक्ति जब मिले इच्छाओं की, जो चाहें सो हांसिल कर कर लें। आवश्यकताएं अनन्त को भी, एक हद तक प्राप्त कर लें। शक्ति जब मिले इच्छाओं की, आसमा read more >>
पहिए की हंसी पहिए तेरी हंसी मैं ना समझ पाया। आमोद या परिहास की बताया क्यों नहीं? हर रोज अतीव हंसना। शोभायमान नहीं।। पहिया कहता है - read more >>
Join Us: