Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

रे मन फिर क्यों तू इतना घबराया है – सचिन ओम गुप्ता

कितना सुन्दर , कितना चंचल ,तू कितना अच्छा है
रे मन फिर क्यों तू इतना घबराया है …
तू हँसता है , सब हँसते हैं ,
तेरे पापा, तेरी मम्मी तूझको कितना दुलराया है
रे मन फिर क्यों तू इतना घबराया है …
जब कल तू नाराज था तेरे भइया न तुझको हँसाया है
रे मन फिर क्यों तू इतना घबराया है …
तू माँ की जान है, पापा का अभिमान है
तू जब-जब आंगन में खेला,
सब चेहरे में खुशियोँ का मेला
कितना सुन्दर , कितना चंचल ,तू कितना अच्छा है
रे मन फिर क्यों तू इतना घबराया है …
रे मन फिर क्यों तू इतना घबराया है …

Sachin Om Guptaसचिन ओम गुप्ता,
चित्रकूट धाम

68 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Sachin Om Gupta

Sachin Om Gupta

मैं सचिन ओम गुप्ता चित्रकूट धाम उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

4 thoughts on “रे मन फिर क्यों तू इतना घबराया है – सचिन ओम गुप्ता”

  1. 827964 523699of course like your web-site even so you require to check the spelling on quite a few of your posts. A number of them are rife with spelling issues and I to locate it quite bothersome to inform the reality even so Ill surely come back once again. 862653

  2. 543142 992688Spot lets start work on this write-up, I actually believe this remarkable site requirements significantly much more consideration. Ill apt to be once once more to read a fantastic deal more, many thanks for that information. 714298

Leave a Reply

प्यार….1-चौहान-संगीता-देयप्रकाश

आज के वक़्त में बहुत प्रचलित शब्दों में से एक है” प्यार”. क्या इसका सही अर्थ पता है हमें? इसका जवाब देना ज़रा मुश्किल है.शायद

Read More »

Join Us on WhatsApp