Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

तुम आए कुछ यूँ – सचिन ओम गुप्ता

तुम आए कुछ यूँ…
आज मौसम भी सोच में,
और बादल भी मौज में
हवाओं की हसीन गुफ्तगू
कब से थे दूर, क्यूँ थे मजबूर ,
तुम आए कुछ यूँ…
जरा सहमें से, खड़े हम थे,
क्यूँ छलक आए आसूं |
चले हम साथ ,ले हाथों में हाथ
कहीं दूर चले जा रहें क्यूँ ,
देख रहा था मैं,सोच रहा था मैं
कि आँखे हुई नम क्यूँ |
रुक ही गया मैं, थम ही गया मैं
शर्माएं जब तुम यूँ |
ख़तम हुआ जब पल ये हसीं तो,
आधे हुए हम क्यूँ |
कि टूटे से है, अधूरें से हैं,
पर पास नहीं तू क्यूँ |
है इंतजार तुम्हारा,ये प्यार तुम्हारा,
एक बस मैं ही हूँ |
ये बातें,ये यादें, ये मुलाकातें,
तुम आए कुछ यूँ …तुम आए कुछ यूँ….
धन्यवाद,

Sachin Om Guptaसचिन ओम गुप्ता,
चित्रकूट धाम

71 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Sachin Om Gupta

Sachin Om Gupta

मैं सचिन ओम गुप्ता चित्रकूट धाम उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

4 thoughts on “तुम आए कुछ यूँ – सचिन ओम गुप्ता”

  1. 123251 257454You completed various very good points there. I did a search on the theme and identified the majority of folks will consent along with your blog. 211772

Leave a Reply

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र-वीरेंद्र देवांगना

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र:: ब्रिटिश सरकार के आधिपत्य से स्वतंत्र होने के बाद संप्रभु और लोकतांत्रिक गणराज्य भारत के लिए

Read More »

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य-वीरेंद्र देवांगना

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य:: 26 नवंबर 2008 को मुंबई के ताज होटल में हुए आतंकी हमले में वहां की चीजें सभी

Read More »

Join Us on WhatsApp