तुम बिन – सोनम सिंह

तुम बिन – सोनम सिंह

तुम बीन नही कुछ भी मेरा,
मेरी दिन मेरी रात तुम।
मेरी जिंदगी की हर आश तुम।
जाने ना दूंगी दूर कही,
तुम बिन मैं मर जाऊँगी।
बादा है तुमसे ये मेरा,
मैं दूर कभी ना जाऊँगी।
तेरी हर खुशियो के लिए,
मैं हद से भी गुजर जाऊँगी।
मैं शाम तुम सबेरा मेरा,
मैं निर तुम सागर हो।
कभी सोच लिया होता तुमने,
तुम बिन मैं कैसे जी पाऊँगी।
लाश ये जिंदा तन होगा,
मैं जीते जी मर जाऊँगी।
मेरी जीत और हार हो तुम,
मेरी खुशियो का पैगाम हो तुम।
मेरी जिंदगी मे बरदान हो तुम,
मेरी हर एक अरमान हो तुम।
तुम बिन कैसे जी पाऊँगी,
तुम बीन मैं मर जाऊँगी।
तुम बीन मैं मर जाऊँगी।।
M nthing without u

Sonam Singhसोनम सिंह,
पटना (बिहार)

2+
comments
  • Waoo.such a NYC poem

    0
  • अनिल वर्मा

    April 11, 2018 at 10:10 pm

    Nice

    0
  • Leave a Reply

    Create Account



    Log In Your Account



    ×
    नमस्कार जी!
    बताइए हम आपकी क्या मदद कर सकते हैं...