Join Us:
20 मई स्पेशल -इंटरनेट पर कविता कहानी और लेख लिखकर पैसे कमाएं - आपके लिए सबसे बढ़िया मौका साहित्य लाइव की वेबसाइट हुई और अधिक बेहतरीन और एडवांस साहित्य लाइव पर किसी भी तकनीकी सहयोग या अन्य समस्याओं के लिए सम्पर्क करें

दु:ख की बदली - रात भयानक थी काली

Rambriksh Bahadurpuri 30 Mar 2023 कविताएँ दुःखद Ambedkar Nagar poetry/दु:ख की बदली कविता 39853 1 5 Hindi :: हिंदी

          रात भयानक थी काली
          न निशाकर की कर की जाली 
          सांय सांय सन्नाटा की ध्वनि 
          फैली तरु की डाली डाली 
          निशीथ सघन काले धन की 
          मन पर छाई दु:ख की बदली 
          व्याकुल तन विकृत मन 
          सोंचा खुशियों का अब हुआ अंत 
          क्या जीवन यह अंतिम पहली
          मन पर छाई दु:ख की बदली 
          नि:शब्द ध्वनि अंत:मन की 
          कंटक कष्ट तो है पथ की 
          सुख दु:ख जीवन के दो पहलू 
          दु:ख को पहले क्यों ना सहलू 
          धर,धैर्य समय का फेरा है 
          ग्रहण सूरज को घेरा है 
          फिर होगा अरुणामय अहन्
          छट जाएगा यह मेघ गहन 
          मिट जाएगी व्यथा मन की 
          मन पर छाई दु:ख की बदली
          
रचनाकार-Rambriksh, Ambedkar Nagar

Comments & Reviews

Pradeep Kumar Maurya
Pradeep Kumar Maurya गजब

1 year ago

LikeReply

Post a comment

Login to post a comment!

Related Articles

शक्ति जब मिले इच्छाओं की, जो चाहें सो हांसिल कर कर लें। आवश्यकताएं अनन्त को भी, एक हद तक प्राप्त कर लें। शक्ति जब मिले इच्छाओं की, आसमा read more >>
Join Us: