हाँ ये प्यार है-रजनीश झा

हाँ ये प्यार है-रजनीश झा

हाँ ये प्यार है
इसमें थोड़ा इंतज़ार है।
अपनो के लिए थोड़ा प्यार है
दूर होते हुए भी सबके
पास होने का एहसास है।
हाँ ये प्यार है।

कोई रूठे तो मनाते है उसे
कोई रोये तो हँसाते है उसे
छोटी बहन की ज़िद के आगे
हमेशा झुक जाते है।
और मुस्कुराते हुए उसकी
हर ज़िद मान जाते हैं।
एक पुकार पे अपनो की
हो जाते कुछ भी करने को तैयार है।
हाँ ये प्यार है।

निस्वार्थ होकर जो माँ बाप बच्चों के लिए कुछ भी कर जाते हैं
अपनी सारी खुशियाँ को छोड़ बच्चों को सब कुछ दे जाते हैं
कुछ ना लेकर अपने बच्चों को
दे जाते सारे अधिकार हैं।
हाँ। ये प्यार है।

एक दोस्त ज़िद पकड़ लेता है
साथ चलने की
हर खतरे में पकड़ कर हाथ चलने की
दोस्त की जान बचाने को
मिटने को हो जाता तैयार है।
हाँ। ये प्यार है।
हाँ। ये प्यार है।

 

   Rajnish Jha

     रजनीश झा
  जमशेदपुर, झारखंड

2+
comments

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account