क्यों दिल तोरी, मुझे ही छोरी – जब प्रेममय दुनिया सारी है – प्रेम शंकर झा

क्यों दिल तोरी, मुझे ही छोरी – जब प्रेममय दुनिया सारी है – प्रेम शंकर झा

मेरी जिसको परवाह नहीं ,
हमको तो परवाह उसी का है |
यहां बातें मेरे गम का नहीं ,
पर बात उसकी खुशी का है|
दुआ है तुम हर पल खुश ही रहो,
क्योंकि सारी दुनिया तो इसमे ही है |
ना तुम सोचना, कोशिश भी करना,
देने खुशी, बनाने पुन: प्यार का राही,
चखा है मैने, बाद इस अनुभव के,
प्रेमपीडा़ की स्वाद थी कितनी खाड़ी |
देख दूसरे को दुःखित होना ,
यह आदत पुरानी मानव की है,
मैं भी ग्रसित हूँ इसी दुख से ,
सोचा न तू भी दानव सी है |
जितनी ही दी साथ तूने ,
उतनी ही जीवन आभारी है ,
मेरे जीवन की कोई और नहीं,
सदा तुम ही तो एक प्रभारी है|
मिले समय तो जरूर पढ़िए
कहना था एक ही बात प्रिये
क्यों दिल तोरी,मुझे ही छोरी
जब प्रेममय दुनिया है सारी

Prem Shankar Jhaप्रेम शंकर झा,
भागलपुर, बिहार

12+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account