Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

शेर-ए -जिंदगी :-भाग -1-रामावतार

शेर – ए – जिंदगी :-भाग-1
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
दिल के हकीम दिल के दर्द को बढ़ा गया,
राह ए वफ़ा में झूठी अदाएं गढ़ा गया ,
कहकर मुझे हमदर्द छलावा किया मुझसे,
फिर अपनी दगाओ के भेंट वो चढ़ा गया ।
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
चलता रहा मैं यूं ही मुझे कुछ न था खबर,
शतरंज की मोहरों के जैसे मैं था बेखबर ,
न जाने वो क्या नुश्खे खुदगर्ज कर गया ,
अनजान था मैं धीरे धीरे कर गया असर ।
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
दुनियां के उजालो ने मुझे खूब रुलाया,
तन्हाई के आंचल में मैंने खुद को छुपाया ,
निकला वो कातिल ए नकाब में मेरे अपने,
जिस खून के रिश्तों को मैंने खूब निभाया ।
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
वो छोड़ गया मुझको था मैं जिसके सहारे,
मैं बैठकर के रोया बहुत दरिया किनारे ,
क्या खूब लिखा है मेरे रब ने नसीब में ,
उजड़ी पड़ी है कब से जिंदगी की बहारें ।
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
जब जिसने मुझे जब भी बुलाया चला गया ,
हर रोज मैं अपनो के ही हाथों छला गया
सब अपनी अहमता में इस कदर डूबा रहा ,
रोना तो बहुत आया पर हँसता चला गया ।
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
जलाया जिस दिप को प्रकाश के लिए ,
बांधा था मैंने नेह को विश्वास के लिए ,
वो बुझ गया वो टूट गया राह ए बीच मे ,
वक्त जो सँजोया था जिस आस के लिए ।
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

नेकी के पत्थरों को मैं तराशता रहा ,
खुश होता रहा जब उसे निहारता रहा ,
मैं चलता रहा हाथ पूण्य के लिये मशाल,
फिर भी न मिला जिसको मैं तलाशता रहा ।
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
बचपन के दौर को मैं जब भी याद करता हु,
आंखों में ले के अश्रुजल आहे मैं भरता हूं ,
वो माँ का आँचल वो हमसाया बाप का ,
ईश्वर से पुनः पाने को फरियाद करता हूं।
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
जारी है ……..

76 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Ramavtar

Ramavtar

मैं ग्राम महका तहसील पंडरिया जिला कबीरधाम छत्तीसगढ़ से हूं

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp