Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

स्वदेशी मिशन – राजिव दीक्षित

जो दो कदम चले नही अभी वो रफ्तार की बातें करने लगे हैं ।
देश की जनता अभी हिन्दु-मुश्लिम,राम मन्दिर,कश्मीर आंतक, जैहाद ,फिल्म , नोटबंदी,GST काला कानून आदी मुद्दौं में उलझी पङी है।
हर बार जब कुछ नया और स्वदेशी अभीयान तेज होना चाहता है या राईट टू रिकाॅल
की बात चलती है तो ऐसे मुद्दे जनता में फेंक दिये जाते है।
जनता उलझी रहती है अपने ही तानों बानों मे।
फिर कोई थोथे और झूठै वादे करके वोट ले जाते हैं।कही शराब की बौतलों के बल से तो कही ₹ के दम से नेता कुर्सी टांक ले जाते है।
अभी राजीव दिक्षित भाई के नाम से देश की 80% से भी ज्यादा जनता अनभिज्ञ है।
अगर देश की जनता को सत्य का दर्शन करवाने है तो राजीव दिक्षित भाई पर और उनकी विचारधारा और व्याख्यानों पर फिल्म बनाकर हर भारतीय को उनसे अवगत करवाना होगा।
आज बूरी से बूरी फिल्म भी जनता के ना चाहतै हुऐ भी हिट हो जाती है।
अगर स्वदेशी संविधान और चाणक्य की नीतियों से निर्मित संविधान बनाना और लागू
करवाना है तो फिर फिल्म ही एकमात्र समाधान है।
यही वक्त की आवाज है यही समय की माँग है।
अगर सभी राजीववादी चाहे तो फिल्म बन सकती है ।क्योंकि धर्मेंन्द्र भी राजीव भाई को सुनकर कायल हो गया था।
अतः सभी राजीववादी इस बात पर गहन अध्ययन और चिन्तन करें ।
समय के अनुसार सोशल मिडिया और फिल्मी जगत का इस्तेमाल करें ।
बुरी बातों के लिए तो सभी करते है क्यों न हम कुछ ऐसा करें कि देश की जनता का सोया जमीर जाग जाऐ और स्वदेशी अभियान की खातिर लोग जी जान लगाने को तत्पर हो जाऐं

राजवीर नितेश
मोतिहारी, ईस्ट चंपारण (बिहार)

81 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Ravi Kumar

Ravi Kumar

मैं रवि कुमार गुरुग्राम हरियाणा का निवासी हूँ | मैं श्रंगार रस का कवि हूँ | मैं साहित्य लाइव में संपादक के रूप में कार्य कर रहा हूँ |

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp