Join Us:
20 मई स्पेशल -इंटरनेट पर कविता कहानी और लेख लिखकर पैसे कमाएं - आपके लिए सबसे बढ़िया मौका साहित्य लाइव की वेबसाइट हुई और अधिक बेहतरीन और एडवांस साहित्य लाइव पर किसी भी तकनीकी सहयोग या अन्य समस्याओं के लिए सम्पर्क करें

उम्मीद मत रखिए

Trishika Srivastava 30 Mar 2023 शायरी समाजिक उम्मीद मत रखिए, Sad Shayri, Hindi Sad Shayri 150161 2 5 Hindi :: हिंदी

उम्मीद मत रखिए किसी से दिलनवाज़ी की, 
खिदमत अब करते हैं लोग बस दिखावे की।
बड़े अदब से पेश आते हैं  दौलत वालों से, 
इज़्ज़त नहीं करते अब लोग उम्रदराज़ो की।

— त्रिशिका श्रीवास्तव ‘धरा’
कानपुर (उत्तर प्रदेश)

Comments & Reviews

Ashish Ghorela
Ashish Ghorela nice

1 year ago

LikeReply

संदीप कुमार सिंह
संदीप कुमार सिंह बहुत खूब, लाजवाब

1 year ago

LikeReply

Post a comment

Login to post a comment!

Related Articles

मेरे नजर के सामने तुम्हारे जैसे बहुत है यहीं एक तू ही हो , मोहब्बत करने के लिए यह जरूरी तो नहीं read more >>
मीठी-मीठी यादों को दिल मैं बसा लेना जब आऐ हमारी याद रोना मत हँस कर हमें अपने सपनों मैं बुला लेना read more >>
Join Us: