Join Us:
20 मई स्पेशल -इंटरनेट पर कविता कहानी और लेख लिखकर पैसे कमाएं - आपके लिए सबसे बढ़िया मौका साहित्य लाइव की वेबसाइट हुई और अधिक बेहतरीन और एडवांस साहित्य लाइव पर किसी भी तकनीकी सहयोग या अन्य समस्याओं के लिए सम्पर्क करें

Santosh kumar koli ' अकेला'

  • Followers:
    1
  • Following:
    2
  • Total Articles:
    165
Share on:

My Articles

वह मुझे, वह मुझे मारेगा, जगा मन-चोर। बम, बारूद, मिसाइल, तैनात चारों ओर। परमाणु भंडार होड़ में, बन रहे अहबाबख़ोर। अहम् के वहम में, सहम, read more >>
कई- कई का, है बेशर्मी में सार। कर बेहयाई, समझे चतुराई, बनते डेढ़ होशियार। उसकी तो है उतरी हुई, औरों की झट ले उतार। एक नकटा, सौ पर भारी read more >>
Join Us: